'ऑटो रिक्शा से सस्ती हवाई यात्रा' वाले बयान पर ट्रोल हुए जयंत सिन्हा, अब दी सफाई

'ऑटो रिक्शा से सस्ती हवाई यात्रा' वाले बयान पर ट्रोल हुए जयंत सिन्हा, अब दी सफाई

Chandra Prakash Chourasia | Publish: Sep, 04 2018 10:45:48 PM (IST) राजनीति

केंद्रीय मंत्री ने पहले हवाई यात्रा को ऑटो रिक्शा से सस्ता बताया उसके बाद कुछ इस तरह सफाई दी।

नई दिल्ली। हवाई यात्रा को ऑटो रिक्शा से भी सस्ता बताकर सोशल मीडिया पर ट्रोल हुए केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा ने अब अपने बयान पर सफाई दी है। सोमवार को गोरखपुर पहुंचे सिन्हा ने हवाई यात्रा को ऑटो रिक्शा से सस्ता बताया था। उन्होंने कहा था कि इस वक्त देश में हवाई यात्रा ऑटो रिक्शा से कहीं ज्यादा सस्ता है।

दुनिया से सबसे सस्ती भारतीय हवाई यात्रा: सिन्हा

मंगलवार को केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा अंतर्राष्ट्रीय विमानन सम्मेलन में सफाई के लहजे में कहा कि अगर आप देश के किसी भी बड़े शहर में ऑटोरिक्शा का किराया देखें तो यह करीब 8 से 10 रुपए प्रति किलोमीटर है.. अगर दो लोग ऑटोरिक्शा में सफर कर रहे हैं तो यह एक आदमी पर चार-पांच रुपया प्रति किलोमीटर होता है। उन्होंने आगे कहा कि अगर आप समय से पहले विमान का टिकट बुक करते हैं, तो यह चार रुपए प्रति किलोमीटर या उससे भी कम होता है, जोकि दुनिया में सबसे सस्ता है।

यह भी पढ़ें: बारामूला में नाबालिग से गैंगरेप-हत्या मामला, सौतेली मां और भाई समेत 5 गिरफ्तार

इस तरह पुराने बयान पर दी सफाई

जयंत सिन्हा ने कहा कि जाहिर है, मैं कम दूरी के लिए विमानों के उपयोग की बात नहीं कह रहा हूं। उसकी तुलना नहीं हो सकती, यह तो केवल यह बताने के लिए है कि हवाई किराया कितना किफायती है। उन्होंने कहा कि सस्ते किराए से भारत में विमान यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है।

15 साल में 100 नए हवाईअड्डों की योजना

यह पूछे जाने पर ईंधन के उच्च मूल्य और कम किराए को भारतीय विमानन क्षेत्र कितने दिनों तक झेल पाएगा? मंत्री ने कहा कि इस क्षेत्र की विकास दर कोई बुलबुला नहीं है, जो फूट जाएगा। भारत में किराए कम हैं, लेकिन दुनिया में सबसे ज्यादा कम नहीं हैं और टिकटों की कीमत कई चीजों के आधार पर तय की जाती है, जिसमें ईंधन की लागत की प्रमुख भूमिका होती है। उन्होंने कहा कि अगर ईंधन की कीमतें बढ़ती हैं तो विमान किराए में भी बढ़ोतरी होगी। उन्होंने कहा कि हमने अगले 15 सालों में 100 नए हवाईअड्डे बनाने की योजनाएं बनाई है, जिस पर 60 अरब डॉलर का निवेश किया जाएगा।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned