जब कर्नाटक का रिजल्ट आते ही राहुल गांधी ने वोटर्स को बोला थैंक यू

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक के वोटर्स को विधानसभा चुनाव में मत और समर्थन देने के लिए मंगलवार को धन्यवाद दिया।

By: Mohit sharma

Published: 16 May 2018, 08:57 AM IST

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कर्नाटक के वोटर्स को विधानसभा चुनाव में मत और समर्थन देने के लिए मंगलवार को धन्यवाद दिया, और कहा कि कांग्रेस उनके लिए लड़ती रहेगी। राहुल ने एक ट्वीट में समर्पण और कठिन परिश्रम के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं को भी धन्यवाद दिया। गांधी ने कहा कि इस चुनाव में कांग्रेस को वोट देने के लिए आप सभी को बहुत बहुत धन्यवाद। हम आपके समर्थन की सराहना करते हैं और आपके लिए लड़ेंगे। हमारे कार्यकर्ताओं और नेताओं को भी पार्टी के पक्ष में उनके समर्पण और अथक कठिन परिश्रम के लिए धन्यवाद। उल्लेखनीय है कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव में त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति बन कर सामने आई है, जिसमें कांग्रेस को 78 सीटें मिली हैं। भाजपा को 104 सीटें तथा जेडी(एस) को 37 सीटें मिली हैं।

कर्नाटक चुनाव में टूटा 61 साल पुराना यह रिकॉर्ड, 1957 में हुआ था ऐसा कमाल

 

चार राज्यों का दिया उदाहरण

वहीं, कांग्रेस ने मंगलवार को गोवा, मेघालय और मणिपुर का उदाहरण पेश करते हुए कहा कि कर्नाटक में नई सरकार के गठन के लिए राज्यपाल वजुभाई वाला को चाहिए कि वे कांग्रेस-जेडी (एस) गठबंधन को आमंत्रित करें। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने यहां मीडिया से बातचीत में कहा कि कांग्रेस और एच.डी. देवेगौड़ा के जनता दल (सेक्युलर) के बीच चुनाव बाद हुए गठबंधन ने नई कर्नाटक विधानसभा में बहुमत हासिल कर लिया है। भाजपा जहां 104 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी है, वहीं 78 सीटों के साथ कांग्रेस दूसरे स्थान पर और 38 सीटों के साथ जेडी (एस) तीसरे स्थान पर है। सुरजेवाला ने कहा कि इस गठबंधन ने 56 प्रतिशत वोट हासिल किया है।

कर्नाटक चुनाव परिणाम से पहले स्वामी रामदेव की भविष्यवाणी- इसके सिर सजेगा 2019 चुनावी ताज

राज्यपाल को लेकर दिया यह बयान

मार्च 2017 में हुए गोवा और मणिपुर विधानसभा चुनाव तथा मेघालय में मार्च 2018 में हुए विधानसभा चुनाव का हवाला देते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि कांग्रेस इन तीनों राज्यों में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी, लेकिन भाजपा की संलिप्तता में चुनाव बाद हुए गठबंधन को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया गया। सुरजेवाला ने कहा कि देश का कानून, संविधान और नैतिकता का मानक बिल्कुल स्पष्ट है कि किसी भी गठबंधन के पास यदि पूर्ण बहुमत है, चाहे वह चुनाव पूर्व हुआ हो, या बाद में, राज्यपाल को सरकार गठन के लिए उस गठबंधन को आमंत्रित करना चाहिए।"

Mohit sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned