खुश खबर : शहर की कामकाजी महिलाओं को मिलने जा रही ये सौगात, प्रस्ताव को दिया जा रहा अंतिम रूप

खुश खबर : शहर की कामकाजी महिलाओं को मिलने जा रही ये सौगात, प्रस्ताव को दिया जा रहा अंतिम रूप

Vasudev Yadav | Updated: 20 Jul 2019, 02:27:46 PM (IST) Raigarh, Raigarh, Chhattisgarh, India

Chhattisgarh Employee Corner : शहर की कामकाजी महिलाओं के लिए नगर निगम ने हास्टल (Hostel) बनाने की रूपरेखा तैयार कर ली है। यह हास्टल (Hostel) शहर के मध्य रेलवे स्टेशन के पास बनाया जाएगा।

रायगढ़. शहर में कामकाजी महिलाओं के लिए हॉस्टल का निर्माण (Hostel Construction) किया जाएगा। इसके लिए 34 लाख रुपए का प्रस्ताव बनाया गया है। फंड की व्यवस्था महिला एवं बाल विकास विभाग की ओर से की जाएगी। अब इस प्रस्ताव को अंतिम रूप दिया जाना है। यह जिला बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ जिला घोषित है, लेकिन कामकाजी महिलाओं के रहने के लिए सुविधा नहीं है।

हालांकि नगर निगम के बजट में पिछले पांच वर्षों से कामकाजी महिलाओं के लिए हास्टल बनाने (Hostel Construction) का प्रस्ताव लाया था। यह प्रस्ताव उन कामकाजी बेटियों के लिए था, जो बाहर ग्रामीण क्षेत्रों से आकर शहर के किसी सरकारी या गैर सरकारी संस्थान में कार्य करती है। ऐसे कामकाजी बेटियों के लिए हास्टल तैयार करने की योजना बनाई गई थी। ताकि इन कामकाजी महिलाएं एक ऐसी जगह उपलब्ध कराया जा सके, लेकिन हर बार इसे बजट के प्रस्ताव में शामिल करने के बाद भुला दिया जाता है। वहीं नगर निगम इस बार इस प्रस्ताव को मूर्तरूप देने की दिशा में आगे बढ़ा है।

Read More :एनटीपीसी सीपत सहित अन्य उद्योगों को कोयला आपूर्ति में कमी, प्रबंधन की चिंता बढ़ी, ये है वजह...

नगर निगम अधिकारियों की मानें तो इसके लिए प्रस्ताव तैयार किया जा चुका है। इसकी लागत करीब 34 लाख रुपए आएगी। नगर निगम की ओर से जमीन का चिन्हांकन भी किया जा चुका है। हास्टल के लिए रेलवे स्टेशन के पास पीडब्ल्यूडी एक ऐसे भवन का चिन्हांकिन किया गया है, जो लंबे समय से जर्जर हो चुका है और पीडब्ल्यूडी विभाग उस भवन का उपयोग भी नहीं कर रहा है। अधिकारियों का मनाना है कि रेलवे स्टेशन के पास यह शहर के मध्य में रहेगा, ताकि इसका लाभ कामकाजी बेटियां आसानी से उठा सके।

Read More : ऊर्जा नगरी कहलाता है जिला, पर ये नजारा देखकर आप हो जाएंगे हैरान, इन बस्तियों में लोगों के घर ऐसे होते हैं रौशन...

वर्षों बाद मिल सका फंड
नगर निगम अपने बजट में इस प्रस्ताव को पिछले पांच वर्षों से लगातार शामिल कर रहा था, लेकिन निगम को फंड नहीं मिल रहा था। हालांकि राज्य व केंद्र सरकार से विकास कार्य के लिए नगर निगम को करोड़ों रुपए मिलते थे, लेकिन इसका उपयोग सड़क, बिजली, पानी व अन्य कार्यांे में ही खर्च किया जाता था। अब विभागीय अधिकारियों की पहल से यह फंड महिला एवं बाल विकास विभाग से मिलने की बात कही जा रही है।

पांच मंजिला होगा हास्टल
विभागीय अधिकारियों की माने तो यह हास्टल पांच मंजिला होगा। वहीं यहा पार्किंग सहित अन्य बुनियादी सुविधा भी रहेगी। इससे इस हास्टल (Hostel) में रहने वाली कामकाजी महिलाओं को किसी प्रकार से परेशानी नहीं हो। निर्माण के बाद इसका लाभ सरकारी कार्य करने वाली महिलाएं जहां उठा सकेंगीं। वहीं निजी दफ्तरों में कार्य करने वाली कामकाजी बेटियों को भी इसका लाभ मिलेगा। यह प्रस्ताव अंतिम चरण में है।

-कामकाजी महिलाओं के लिए हास्टल बनाया (Hostel Construction) जाना है। इसके लिए जगह चिन्हांकित कर ली गई है। इसके निर्माण में करीब 34 लाख रुपए खर्च आएगा। यह राशि महिला एवं बाल विकास विभाग से मिलेगी। प्रस्ताव को अंतिम रूप दिया जा रहा है- रमेश जायसवाल, आयुक्त ननि

Chhattisgarh Employee Corner से जुड़ी खबरें यहां पढि़ए...

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर या ताजातरीन खबरों, Live अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned