Antagarh Tape Case: SIT दफ्तर पहुंचे मंतूराम पवार ने वाइस सैंपल देने से किया इनकार

Antagarh Tape Case: SIT दफ्तर पहुंचे मंतूराम पवार ने वाइस सैंपल देने से किया इनकार

Ashish Gupta | Publish: Jun, 24 2019 03:47:49 PM (IST) Raipur, Raipur, Chhattisgarh, India

Antagarh Tape Case: एसआईटी दफ्तर पहुंचे मंतूराम पवार ने वाइस सैंपल देने से किया इनकार। CM भूपेश पर बदले की भावना से काम करने का लगाया आरोप।

रायपुर. अंतागढ़ टेपकांड (Antagarh Tape Case) की जांच के लिए गठित स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम के नोटिस पर मंतूराम पवार सोमवार को एसआईटी दफ्तर पहुंचे। एसआईटी ने वाइस सैंपल लेने के लिए मंतूराम पवार को बुलाया था। लेकिन करीब एक घंटे की पूछताछ के बाद मंतूराम ने वाइस सैंपल देने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा, मामला कोर्ट में है और वे कोर्ट के आदेश का सम्मान करते हैं।

Chhattisgarh: CM की मां की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती, भूपेश बघेल का दिल्ली दौरा टला

मंतूराम ने मीडिया से बातचीत में अंतागढ़ टेपकांड की जांच के लिए गठित स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम पर सवाल उठाए। मंतूराम ने एक बार फिर छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार को आड़े हाथ लेते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) पर बदले की भावना से काम करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा, प्रदेश की कांग्रेस सरकार पिछले छह महीने से एसआईटी पर एसआईटी गठित कर रही है, इससे साफ जाहिर होता है कि सरकार की नीयत ठीक नहीं है, वो प्रताड़ित करना चाहती है।

बतादें कि एसआईटी ने अंतागढ़ टेपकांड जांच के लिए पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी, अमित जोगी, मंतूराम पवार, पूर्व मुख्यमंत्री के दामाद डॉ. पुनीत गुप्ता को वाइस सैंपल देने के लिए अलग-अलग तिथि में राजधानी गंज थाना परिसर स्थित साइबर कंट्रोल रूम में उपस्थिति दर्ज कराने को कहा गया है। एसआईटी ने पूर्व महापौर डॉ. किरणमयी नायक की शिकायत का हवाला देकर मंतूराम पवार को 24 जून को, अमित जोगी को 25 को, अजीत जोगी को 26 को और पुनीत गुप्ता को 27 जून को उपस्थित होने को कहा है।

Adsmeta Encounter: सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अनदेखी, डेढ़ माह बाद भी CBI को नहीं सौंपी फ़ाइल

वाइस सैंपल का मिलान होगा
साइबर विशेषज्ञों की टीम उपस्थिति दर्ज कराने वाले सभी लोगों का वाइस सैंपल लेगी। इसे रिकॉर्ड करने के बाद जांच के लिए लैब भेजा जाएगा। मालूम हो कि अंतागढ़ टेपकांड को फिरोज सिद्दीकी ने उजागर किया था। वह इस मामले में मुख्य गवाह भी है और उन्होंने सारे साक्ष्य एसआईटी को सौंप दिए हैं।

मृतक महिला के कपड़े पुरुष डॉक्टर और वार्डबॉय ने बदले, विरोध करने पर परिजनों पर FIR

कोर्ट में नहीं हुआ बयान
अंतागढ़ टेपकांड को उजागर करने वाले फिरोज सिद्दीकी का अदालत में धारा 164 के तहत बयान कराया जाना था, लेकिन चार महीने बाद भी ऐसा नहीं हो सका है। जबकि इस मामले के एक अन्य गवाह अमीन मेमन का मजिस्ट्रेट के समक्ष बंद कमरे बयान कराया गया था।

Antagarh Tape Case से जुड़ी Latest Update यहां पढ़िए

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर या Download करें patrika Hindi News App.

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned