होटल में ठहरकर कॉलोनियों की लेते थे जानकारी, फिर सूटबूट पहनकर फ्लैटों में देते थे घटना को अंजाम

Chhattisgarh Crime News: कॉलोनियों में घूसने के लिए कार में आते थे चोर, मोबाइल का नहीं करते हैं इस्तेमाल. दिल्ली में 17, रायपुर में 3 और दुर्ग-भिलाई में 1 चोरी कर चुके हैं आरोपी

By: Bhupesh Tripathi

Updated: 26 Jul 2019, 08:33 PM IST

रायपुर।दिल्ली और नोएडा के चोर लग्जीरियस लाइफ जीते थे। बड़े होटलों में ठहरकर शहर की प्रमुख कॉलोनियों की जानकारी लेते थे फिर सूटबूट (thieves) पहनकर कार में सवार होकर चोरियां (Chhattisgarh Crime News) करने जाते थे। केवल फ्लैट वाली कॉलोनियों में ही चोरी करते थे। कॉलोनी में एंट्री करने के बाद पार्र्किंग में कार खड़ी कर फ्लैटों की जांच करने निकल जाते थे।

जिस प्लैट में ताला लगा मिलता था, उसे तोड़कर भीतर घुस जाते थे। जेवर व नगदी लेकर वापस पार्र्किंग में आते और अपनी कार लेकर निकल जाते थे। पहनावा और कार में आने की वजह से कॉलोनी के गेट में तैनात सिक्युरिटी गार्ड भी ज्यादा सवाल करने से हिचकते थे। एक चोर को रायपुर पुलिस ने पकड़ लिया है। दूसरा फरार होने में सफल हो गया। पुलिस (Raipur police) पूरे मामले का शनिवार को खुलासा करेगी।

" न्याय तो दिला दूंगा पहले मुझे खुश कर दो" ऐसा कहकर नाबालिग के साथ मिटाया हवस, फिर बेचा जिस्म..

दिल्ली में 17 चोरियां, रायपुर में 3
इसी अंदाज से मुख्य आरोपी दिल्ली में 17 चोरियां कर चुका है। रायपुर में पंडरी, तेलीबांधा और कबीर नगर की कॉलोनियों में चोरी किया है। इसके अलावा दुर्ग-भिलाई के एक फ्लैट में भी इसी तरह से चोरी की है। आरोपियों ने चोरी का काफी माल अय्याशी में उड़ा दिया है। बताया जाता है कि आरोपी बड़े-बड़े होटलों में (Luxury thieves were arrested) ठहरते थे। इसके बाद चोरी की प्लानिंग करते थे। दिल्ली में चोरी के मामले में जेल में बंद था। और करीब एक माह पहले ही छूटा था। इसके बाद रायपुर में चोरी करने पहुंच गए थे।

ताला तोडऩे के लिए खास औजार
आरोपियों के पास एक कार है। इस कार से दिनभर शहर भर में घूमते रहते थे। और किसी भी कॉलोनी में जाते थे। सूने फ्लैट का पता लगाते थे। आरोपी ताला तोडऩे के लिए खास औजार रखते थे। इससे ताला आसानी से टूट जाता था।

Video: शाम होते ही इलाके में शुरू हो जाती थी लड़कियों को बुक करने का सिलसिला, जब पहुंची पुलिस तो..

मोबाइल का नहीं करते इस्तेमाल
पकड़ा गया चोर काफी शातिर है। चोरी करते समय मोबाइल का इस्तेमाल नहीं करते थे। आरोपियों को पता था कि पुलिस मोबाइल लोकेशन के आधार पर ही उन तक पहुंचती है। इसलिए मोबाइल नहीं रखते थे। पंडरी, कबीर नगर और तेलीबांधा में चोरी का अंदाज एक जैसा ही था। आरोपी केवल गहने व नगदी लेकर फरार हुए थे। इस कारण पुलिस को शक था कि चोरी में बाहरी गिरोह (Thief gang) का हाथ है। जांच के दौरान पुलिस को कई सीसीटीवी फुटेज मिले। कार का नंबर और अन्य फुटेज के आधार पर पुलिस ने उनकी जानकारी जुटा ली। इसके बाद उसे (Luxury thieves were arrested) धरदबोचा।

Click and Read More News Related Chhattisgarh Crime News .

Show More
Bhupesh Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned