script चार दिनों की झड़ी से जनजीवन अस्त-व्यस्त, ठंड से छूट रही कंपकंपी, कृषि कार्य ठप | Complaint of pest infestation in vegetable crops | Patrika News

चार दिनों की झड़ी से जनजीवन अस्त-व्यस्त, ठंड से छूट रही कंपकंपी, कृषि कार्य ठप

locationरायपुरPublished: Dec 08, 2023 03:43:14 pm

Submitted by:

Gulal Verma

बीते चार दिनों से बलौदा बाजार नगर समेत पूरे क्षेत्र में चक्रवाती तूफान मिचौंग के असर से जनजीवन थम सा गया है। तूफान का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सोमवार रात से बलौदा बाजार क्षेत्र समेत पूरे जिले में सावन की झड़ी के जैसी रुक-रुककर बारिश हो रही है, जो गुरुवार पूरे दिन तक जारी रही।

चार दिनों की झड़ी से जनजीवन अस्त-व्यस्त, ठंड से छूट रही कंपकंपी, कृषि कार्य ठप
बीते चार दिनों से बलौदा बाजार नगर समेत पूरे क्षेत्र में चक्रवाती तूफान मिचौंग के असर से जनजीवन थम सा गया है। तूफान का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सोमवार रात से बलौदा बाजार क्षेत्र समेत पूरे जिले में सावन की झड़ी के जैसी रुक-रुककर बारिश हो रही है, जो गुरुवार पूरे दिन तक जारी रही। चार दिनों की झड़ी से एक ओर जहां पूरा जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है तथा बारिश की वजह से ठंड बढ़ गई है। वहीं, बेमौसम बारिश से सब्जियों की फसल में कीट प्रकोप की शिकायत आने लगी है। जिन किसानों की धान की फसल की अब तक कटाई नहीं हो पाई है उनको अब नुकसान की चिंता सताने लगी है। कृषि विभाग ने भी उन्हें मौसम खुलने तथा फसल के सूखने के पूर्व कटाई नहीं किए जाने की अपील की है।
मौसम विभाग ने अब शनिवार को ही मौसम खुलने की बात कही है, यानी पूरा सप्ताह तूफान की वजह से प्रभावित हुआ है। मौसम विभाग के अनुसार शनिवार से मौसम साफ होगा। जिसके बाद कड़ाके की ठंड पड़ेगी। गुरुवार को भी बलौदा बाजार नगर समेत पूरे क्षेत्र में दिन भर रुक-रुककर बारिश होती रही। बारिश के साथ ही साथ तेज ठंडी हवा चलने से पूरे दिन ठंडक बनी रही। जिसके चलते लोगों ने बहुत अधिक आवश्यक होने पर ही घर से निकलने की हिम्मत दिखाई। बारिश की वजह से पूरा जनजीवन थम सा गया है तथा रात 11-12 बजे तक गुलजार रहने वाले चौक-चौराहों में 8 बजे से ही सन्नाटा नजर आ रहा है। मौसम की मार बाजार से लेकर कार्यालयों तक नजर आ रही है तथा बाजार में भी इक्का-दुक्का लोग ही नजर आ रहे हैं। अधिकांश शासकीय कार्यालयों में कर्मचारियों तथा शालाओं में बच्चों की संख्या भी कम रही तथा लोग अपने घरों में कंबल तथा रजाई में ही दुबके रहे।
सब्जी में कीट प्रकोप की शिकायत
बारिश तथा बदली की वजह से सब्जियों की फसलें जमकर प्रभावित हुई हैं। बारिश की वजह से सर्वाधिक नुकसान सब्जी का उत्पादन करने वाले किसानों को उठाना पड़ रहा है। बारिश की वजह से सब्जी बाड़ी में पानी तथा कीचड़ से पालक, मेथी, बथुआ, टमाटर के पौधे कीचड़ की वजह से खराब हो गए हैं। वहीं, बदली के चलते कई सब्जियों में कालापन तथा कीट प्रकोप की शिकायत बढ़ गई है। बलौदाबाजार के आसपास सब्जी का उत्पादन करने वाले छोटे सब्जी उत्पादकों हेतराम यादव, पुनीराम यादव, हृदयराम निषाद, भगवंती केंवट आदि ने बताया कि बदली तथा बारिश की वजह से सब्जियों में कीट प्रकोप की शिकायत बढ़ गई है। फूलगोभी, पत्ता गोभी जैसी सब्जियों को कीड़ काटने लगे हैं। वहीं, टमाटर, सेम, लौकी, बैंगन में कीट प्रकोप की वजह से छेद हो गया है। शीत ऋतु में सर्वाधिक डिमांड में रहने वाली मेथी भाजी, पालक भाजी, लाल भाजी, बथुवा भाजी के पत्तों में मौसम तथा कीट प्रकोप की वजह से छेद हो गया है, जिसकी वजह से इन सब्जियों को ग्राहक लेने में कतरा रहे हैं। किसानों ने बताया कि अब किसानों का कीटनाशक में अधिक खर्च बढ़ेगा। वही,ं सब्जियां आगामी सप्ताह भर में बाजार में आने लायक हो गई थीं, उन्हें अब जल्दी बेचना पड़ेेगा जिसके बाद अब सब्जियों की आगामी खेप में देरी होगी। कीट प्रकोप की वजह से सब्जियों में छेद, इल्ली की शिकायत बढ़ गई है।
फसल को फायदा भी, नुकसान भी
बेमौसम बारिश का किसानों के लिए मिला-जुला असर रहा। इस वर्ष वर्षा ऋतु के देर तक चलने तथा देर तक बारिश की वजह से धान की कटाई लेट हुई है जिसकी वजह से बहुतेरे किसानों ने गेहूं की बोनी नहीं की है। कृषि विभाग के उप संचालक डी. के. नायक ने बताया कि जिले के ज्यादातर किसानों ने अब तक गेहूं की बोनी नहीं की है, परंतु जिन किसानों ने उतेरा फसल सरसों, तिवरा, बटरी आदि की बोनी की है, उन फसलों के लिए यह पानी फायदेमंद है। नायक ने बताया कि बारिश से हुए नुकसान का अंदाजा मैदानी अमले द्वारा कराया गया है। जिले में सिमगा के कुछ इलाकों को छोडक़र कहीं पर भी धान के खेतों में पानी भराव वाली स्थिति नहीं है। जिसकी वजह से धान की फसल को अधिक नुकसान नहीं है। जिन किसानों ने अब तक धान की कटाई नहीं की है उन्हे मौसम साफ होने तथा फसल के सूखने तक इंतजार करने तथा उसके बाद ही कटाई किए जाने की समझाइश दी जा रही है।

ट्रेंडिंग वीडियो