बढ़ा दबाव, फुल होने लगे वार्ड, मरीज उदयपुर रैफर

राजसमंद के अस्पतालों में ऑक्सीजन की भी होने लगी कमी, घंटों लाइनों में लगने के बाद मिल रहे सिलेंडर, बढ़ते संक्रमण का असर

By: jitendra paliwal

Published: 20 Apr 2021, 11:51 AM IST

राजसमंद. बढ़ते संक्रमण के कारण पिछले वर्ष वाली स्थिति सामने आनी शुरू हो गई है। एक ओर जहां अस्पताल में बैड खाली नहीं है, वहीं कोविड मरीजों को उदयपुर शिफ्ट किया जा रहा है। अब तक करीब २० से अधिक मरीजों को उदयपुर भेजा जा चुका है। वहीं आक्सीजन की कमी भी सामने आने लगी है। ऐसे ही हालात यदि सात दिन तक ओर रहे तो निश्चित रूप से राजसमंद में आक्सीजन की कमी हो जाएगी और परिस्थितियां उदयपुर, जयपुर जैसी बन सकती है। हालांकि स्थानीय मेडिकल टीमें, डाक्टर और अन्य नर्सेज नियमित रूप से ये ही प्रयास कर रहे है कि हालात नियंत्रण में रहे और कम से कम मरीजों को उदयपुर भेजा जाए। लेकिन अस्पताल में बैड नहीं होने की स्थिति में तत्काल इलाज की सुविधा को देखते हुए उदयपुर शिफ्ट करना भी मजबूरी बन चुकी है।

उदयपुर में सेवा के लिए हमारे यहां के ही लोग
उदयपुर में जरूरत को देखते हुए राजसमंद से काफी मेडिकल स्टॉफ भेजा हुआ है, जो वहां पर राजसमंद से रैफर मरीजों की देखभाल में जुटा है। ये स्टॉफ वहां की जरूरत के हिसाब से भेजा है। लेकिन अब यहां पर भी जरूरत पडऩे लगी है। परंतु यहां पर कोविड मरीजों को पिछले तीन दिनों से तो उदयपुर ही भेजा रहा है।

गांवों में हालात खराब
दूसरी ओर गांवों में भी स्थितियां बदल रही है। रोज मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है और ये ही मरीज जिला अस्पताल पहुंच रहे है। जहां से उदयपुर भेजा जा रहा है।

ये स्थिति अभी: अस्पताल के पास 50 सिलेंडर, दो घंटे में 5 हो रहे खाली
अस्पताल सूत्रों के अनुसार जिला अस्पताल के पास आक्सीजन के ५० सिलेंडर है जो रनिंग में है। जिसमें से स्थिति यह है कि प्रति दो घंटों में करीब ५ सिलेंडर खाली हो रहे है। खासकर पिछले तीन दिनों में जो हालात बने है, वह आने वाले समय में भयानह स्थिति को बनाने वाले है। जबकि स्थानीय आक्सीजन प्लांट की क्षमता एक दिन में ३४ सिलेंडर सप्लाई करने की है। ऐसी स्थिति में आगामी सात दिनों में आक्सीजन की भारी कमी देखी जा सकती है।

ये स्थिति बाद की : रिकवरी रेट 12 प्रतिशत तक गिरी, औसत 100 मरीज
राजसमंद जिले की बात करे तो यहां पर पिछले चार से पांच दिनों में कोविड मरीजों का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। एक दिन में औसत 100 से ज्यादा का आंकड़ा मरीजों का आ रहा है। वहीं प्रदेश में रिकवरी रेट 12 प्रतिशत तक गिर चुकी है। यानि की कोविड मरीजों की मौत भी हो रही है। ऐसी स्थिति में आगामी सात दिन बाद मरीजों की संख्या में औसत 12 से 15 प्रतिशत तक वृद्धि का अनुमान है।

कोविड ने तीन चीजें सिखाई, इसे ही बनाएं हथियार
वर्तमान में वक्त बड़ा ही नाजुक है। परिस्थितियां विपरित बनी हुई है। हालात नियंत्रण से कभी भी बाहर हो सकते है। कुल मिलाकर पिछले वर्ष से भी ज्यादा खतरनाक स्थिति में राजसमंद खड़ा है। कभी भी हालात और बिगड़ सकते हैं। ऐसे में हम खुद को समझे और समझाएं, दूसरों को भी समझाएं और बेहद जरूरत हो तो ही बाहर निकले। कोविड संक्रमण तेज गति से फैल रहा है। आए दिन जो आंकड़े सामने आ रहे है, उससे लगता है कि गति की चेन को तोडऩे के लिए हमारा घर में रहना ही सभी के लिए सुरक्षित है। ऐसे में बचाव का एक ही तरीका कारगर है कि घर में रहे। बाहर निकले तो मास्क जरूरी है, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करें। कोविड की सिखाई तीन चीजें ही उसके खिलाफ हथियार है। जैसे हाथ नहीं मिलाना, 6 गज की दूरी पर खड़े रहना और मास्क पहने रखना। ये चीजें कोविड से ही सिखाई है और आज ये ही बचाव के लिए हमारे हथियार है।

jitendra paliwal
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned