scriptFollow these 3 Rules of Skanda Purana For Happiness And Prosperity | मान्यता: स्कंद पुराण के इन 3 नियमों का करें पालन, जीवन में सुख-समृद्धि में नहीं होगी कभी कमी | Patrika News

मान्यता: स्कंद पुराण के इन 3 नियमों का करें पालन, जीवन में सुख-समृद्धि में नहीं होगी कभी कमी

Skanda Purana: स्कंद पुराण में भगवान शिव की महिमा का वर्णन किया गया है। माना जाता है कि 81000 श्लोकों से युक्त इस पुराण की ये 3 बातें जीवन में सकारात्मक बदलाव ला सकती हैं।

नई दिल्ली

Updated: May 08, 2022 04:08:46 pm

कार्तिकेय यानी स्कंद द्वारा भगवान भोलेनाथ की महिमा का वर्णन करने के कारण इस पुराण का नाम स्कंद पुराण रखा पड़ा। साथ ही इस पुराण में विभिन्न तीर्थों की पूजा-पद्धति का भी जिक्र किया गया है। विवरण की दृष्टि से इसे सबसे बड़ा पुराण माना जाता है। वहीं स्कंद पुराण के भाग में तुलसी की महिमा को भी बताया गया है। इस पुराण में कई ऐसी नियम बताए गए हैं जिनसे आमतौर पर लोग अनजान होते हैं। और इन्हीं बातों से अनजान होने के कारण लोग कई बार ऐसी भूल कर बैठते हैं जो उनके जीवन में समस्याओं का कारण बन सकती है। तो आइए जानते हैं स्कंद पुराण की वे कौन सी 3 बातें हैं जिनका पालन करने से जीवन में सुख-समृद्धि में वृद्धि होने की मान्यता है...

skanda purana, tulsi ke niyam, tulsi ke fayde, skanda purana book in hindi, tulsi puja ke niyam, holy basil benefits, स्कन्द पुराण के उपाय, स्कन्द पुराण के अनुसार, स्कंद पुराण क्या है, shree krishna, skanda purana in hindi, happiness and prosperity, shiva and parvati, शिव के उपाय, शिव को प्रसन्न कैसे करे, स्कंद पुराण का पाठ,
मान्यता: स्कंद पुराण के इन 3 नियमों का करें पालन, जीवन में सुख-समृद्धि में नहीं होगी कभी कमी

1. स्कंद पुराण और शास्त्रों में तुलसी को बहुत ही पवित्र और पूजनीय पौधा माना गया है जिस घर में तुलसी का पौधा लगा होता है और जल अर्पण के साथ ही तुलसी की नियमित पूजा होती है, इस परिवार के सदस्यों को यमदूत की यातनाओं का भय नहीं होता और मोक्ष की प्राप्ति होती है।

2. भगवान की पूजा में कभी भी सूखे पुराने फूल और बासी जल का प्रयोग नहीं किया जाता। लेकिन स्कंद पुराण के अनुसार तुलसीदल और गंगाजल कभी भी बासी नहीं होते। यह दोनों चीजें हमेशा ही पवित्र मानी जाती हैं। इसलिए इन्हें पुराना समझ का फेंका नहीं जाता।

3. स्कंद पुराण में इस बात का भी जिक्र मिलता है कि कितने भी पापी और अपराधी व्यक्ति की मृत्यु के पश्चात यदि उसके शरीर के ऊपर तुलसी की सुखी लकड़ियां बिछाकर उनसे अग्नि शुरू की जाए तो ऐसे व्यक्ति को यमदूत का भय नहीं होता और उसकी दुर्गति से भी रक्षा होती है।

यह भी पढ़ें

रत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra: महाराष्ट्र से बड़ी खबर, देवेंद्र फडणवीस आज शाम 7 बजे लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस का बड़ा बयान कहा- एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले सीएमMaharashtra Political Crisis: उद्धव के इस्तीफे पर नरोत्तम मिश्रा ने दिया बड़ा बयान, कहा- महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा का दिखा प्रभावप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने MSME के लिए लांच की नई स्कीम, कहा- 18 हजार छोटे करोबारियों को ट्रांसफर किए 500 करोड़ रुपएDelhi MLA Salary Hike: दिल्ली के 70 विधायकों को जल्द मिलेगी 90 हजार रुपए सैलरी, जानिए अभी कितना और कैसे मिलता है वेतनMaharashtra Politics: बीजेपी और शिंदे गुट के बीच नहीं आएगी शिवसेना, लेकिन निभाएगी विरोधी की भूमिका, जानें संजय राउत ने क्या कहा?Kangana Ranaut ने Uddhav Thackeray पर कसा तंज, कहा- 'हनुमान चालीसा बैन किया था, इन्हें तो शिव भी नहीं बचा पाएंगे'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.