रीवा में प्रभारी मंत्री लखन घनघोरिया का विरोध, रास्ते में धरने पर बैठकर रोका

रीवा में प्रभारी मंत्री लखन घनघोरिया का विरोध, रास्ते में धरने पर बैठकर रोका
Minister of charge in Rewa protested against Lakhan Ghanghoriya

Mrigendra Singh | Updated: 12 Jun 2019, 09:13:04 PM (IST) Rewa, Rewa, Madhya Pradesh, India

मंत्री नहीं पहुंचे तो धरने पर बैठे, नारेबाजी की

रीवा। प्रदेश सरकार के वरिष्ठ मंत्री एवं रीवा जिले के प्रभारी मंत्री लखन घनघोरिया को रीवा प्रवास के दौरान विरोध का सामना करना पड़ा। यह पहला अवसर है जब मंत्री के विरोध में नारेबाजी और सड़क पर धरना देकर रास्ता रोका गया है।
बताया गया है कि राजनिवास में मंत्री से मिलने पहुंचे लोगों ने नारेबाजी शुरू कर दी। आरोप था कि दोपहर तीन बजे मिलने के लिए बुलाया गया था लेकिन सायं पांच बजे तक वह नहीं आए।

कलेक्टर ने सड़क पर नहीं बैठने की समझाइश दी तो उनके साथ भी नोकझोंक हुई। इसके बाद प्रभारी मंत्री आए और अपनी व्यस्तता का हवाला दिया। प्रतिनिधि मंडल में शामिल कौशल सिंह, सुभाष श्रीवास्तव, शिव सिंह, एमडी खान, विश्वनाथ पटेल, सिद्धार्थ श्रीवास्तव, नूरुल हसन, सुरेश पटेल सहित अन्य ने तालाबों में हो रहे अतिक्रमण पर कार्रवाई की मांग के साथ ही रीवा-हनुमना मार्ग में काटे गए पेड़ों के बदले पौधे लगाने में मनमानी का आरोप लगाया और कहा कि उसकी जांच कराई जाए और सख्त कार्रवाई हो। इसके अलावा जिला कोर्ट भवन को यथावत रखने की मांग उठाई तो मंत्री ने कहा कि यह तो हमारे वचन पत्र में है, अन्य मांगों पर कलेक्टर से कहा कि जांच कराएं।


कांग्रेसियों ने किया विरोध
सुबह प्रभारी मंत्री लखन घनघोरिया, पंचायत मंत्री कमलेश्वर पटेल, खनिज मंत्री प्रदीप जायसवाल राजनिवास पहुंचे, जहां उनसे मिलने कुछ कांग्रेस कार्यकर्ता पहुंचे। शासकीय अभिभाषक की नियुक्ति में भाजपाइयों का नाम भेजे जाने पर आपत्ति उठाई और यह भी कह दिया कि मंत्री बने आप लोग घूमते रहिए और भाजपा के लोगों को लाभ मिलता रहेगा, जिससे पार्टी हारती ही रहेगा। इस पर मंत्री कमलेश्वर असहज हो गए, प्रभारी मंत्री ने मामले को संभाला। भीतर तेज आवाज आने के चलते बाहर जमा कार्यकर्ता भी पहुंचने लगे थे।

---
लक्ष्मणबाग का होगा सीमांकन और हटेगा अतिक्रमण
- प्रभारी मंत्री ने कहा अराजगता का अड्डा बना हुआ है, कलेक्टर करेंगे जांच
रीवा। लक्ष्मणबाग संस्थान का भ्रमण करने पहली बार प्रभारी मंत्री लखन घनघोरिया पहुंचे। यहां पर प्रबुद्ध वर्ग के साथ वार्ता की, जिसमें संस्थान के प्रति प्रशासन की उदासीनता और कुछ लोगों द्वारा इसमें कब्जा जमाने के प्रयास का आरोप लगाया। प्रभारी मंत्री ने कहा कि जिस तरह से बताया जा रहा है उससे साफ होता है कि पूर्व में यहां लोगों ने अराजकता का अड्डा बना रखा था। धार्मिक स्थल है, यहां पर जो साजिश कर सकता है वह कहीं भी कर सकता है। इसलिए लक्ष्मणबाग के धार्मिक महत्व को बनाए रखने के लिए सरकार इसे पर्यटन केन्द्र के रूप में विकसित करने का प्रयास करेगी।

उन्होंने कहा कि 60 एकड़ क्षेत्रफल में अतिक्रमण की बात सामने आ रही है। कलेक्टर इसका सीमांकन कराएंगे और अतिक्रमण को हटाने की कार्रवाई करेंगे। इसके पहले बृजेन्द्र कुमार माला सहित कई अन्य लोगों ने लक्ष्मणबाग की दुर्दशा और यहां पर हो रहे कब्जे को हटाने की मांग उठाई। लक्ष्मणबाग गौशाला संचालन समिति भंग होने के बाद भी पूर्व पदाधिकारियों द्वारा यहां की सामग्री उपयोग करने का आरोप लगाया। मंत्री ने लक्ष्मणबाग के महंत हरिवंशाचार्य से मुलाकात कर व्यवस्थाएं सुधारने का आश्वासन दिया। वहीं गौशाला में जाकर गायों को गुड़ और केला खिलाया। इस दौरान कलेक्टर ओपी श्रीवास्तव, त्रियुगीनारायण शुक्ला, गुरमीत सिंह मंगू, विनोद शुक्ला, राजेन्द्र शर्मा, विद्यावती पटेल, कविता पाण्डेय, बबिता साकेत, भारतशरण सिंह, बृजेश पाण्डेय, सुब्रतमणि त्रिपाठी, कुंवर सिंह, मनीष नामदेव सहित कई अन्य मौजूद रहे। जिला कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष वसीम राजा ने बापू भवन की दुर्दशा सुधारने की मांग उठाई।
- गौशाला और श्मशानघाट हटाने का भी निर्देश
लक्ष्मणबाग में संचालित गौशाला और यहां संस्थान के बायलाज के विपरीत श्मशानघाट बनाए जाने पर मंत्री ने कलेक्टर से कहा कि दोनों को यहां से हटाया जाए। कहा कि इसके लिए पहले दूसरा स्थान ढूढ़ लें, इसके बाद शिफ्ट करने की कार्रवाई करें। मंत्री ने कहा है कि लक्ष्मणबाग अपने पुराने स्वरूप में फिर पहचान कायम करेगा।
---------------------------

 

 

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned