पंचायत अधिकारी-कर्मचारियों ने मटका फोडकऱ किया विरोध प्रदर्शन, पंचायतों में12वें दिन नहीं खुले ताले

पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग सयुंक्त मोर्चा की अगुवाई में रीवा, हनुमना, मउगंज, त्योथर, जवा, सिरमौर, गंगेव सहित अन्य जनपदों में 12वें दिन भी अमले की जारी अनिश्चित कालीन हड़ताल

By: Rajesh Patel

Updated: 03 Aug 2021, 11:17 AM IST

Panchayat officers-employees protested by bursting Matka
rajesh patel IMAGE CREDIT: patrika

रीवा. पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग संयुक्त मोर्चा की अगुवाई में संविदा अधिकारी व कर्मचारियों की हड़ताल 12वें दिन सोमवार को भी जारी रही। संविध अधिकारी व कर्मचारियों ने जनपद पंचायत परिसर में धरना स्थल पर मटका फोडकऱ विरोध प्रदर्शन किया। महिला कर्मचारियों ने मटका फोड़ विरोध प्रदर्शन में सरकार के खिलाफ नारे लगाने में सबसे आगे रहीं।

सरकार को अविलंब सभी मांगो का निराकरण करना चाहिए

जिला मुख्यालय पर जनपद पंचायत रीवा से लेकर ग्रामीण क्षेत्र के सभी मुख्यालयों पर सुबह 10 बजे से दोपहर दो बजे तक प्रदर्शन चला। मउगंज में संयुक्त मोर्चा के आहवान पर धरना स्थल पर पूर्व विधायक लक्ष्मण तिवारी भी पहुंचे। पूर्व विधायक ने कहा मेरे परिवार में पंचायत कर्मी हैं उनका दर्द हम बखूबी समझते हैं। सरकार को अविलंब सभी मांगो का निराकरण करना चाहिए।

12वें दिन भी सरकार मांगों पर विचार नहीं

पंचायत विभाग के संविदा अधिकारी एवं कर्मचारी संयुक्त मोर्चा की अगुवाई में चरणबद्ध आंदोलन कर रहे हैं। आंदोलित संघ के पदाधिकारियों ने कहा कि कर्मचारियों के हड़ताल के 12वें दिन भी सरकार मांगों पर विचार नहीं कर रही है। सरकार आंदोलित कर्मचारियों की जवाब देही तय करने के लिए आला अफसरों कार्रवाई का दवाब बना रही है। जिला मुख्यालय से लेकर प्रत्येक जनपद परिसर में लामबंद संविदा अधिकारी व कर्मचरी आंदोलन में कर रही हैं।

मटका फोडकऱ विरोध प्रदर्शन किया

जनपद सिरमौर, रायपुर कर्चुलियान, हनुमना, मउगंज, नईगढ़ी और त्योंथर में आंदोलित संविदा अधिकारी व कर्मचारियों ने मटका फोडकऱ विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान कर्मचरियों ने मांगो के निराकरण का ध्यान आकृष्ट कराते हुए मटका फोडकऱ सरकार को जागने का प्रयास किया। जनपद सिरमौर के धरना स्थल में सरपंच संघ के अध्यक्ष सहित अन्य ग्राम पंचायतों के सरपंच-सचिव कार्य बंद कर मांगों का समर्थन किया है।

ये हैं प्रमुख मांगे

5 जून 2018 की संविदा नीति लागू करना, वार्षिक अनुबंध प्रथा बंद करें। लोक सेवक की असमय मौत पर अनुकंपा नियुक्ति। सचिवों को महंगाई भत्ता दिया जाए। 6वें वेतन की गणना। आदि कई मांगे शामिल हैं।

COVID-19
Rajesh Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned