रीवा में सीधी के यात्रियों ने खटारा बस पर चढऩे से किया इंकार, लग्जरी बस से गए नागपुर

यात्रियों ने कहा मिर्जा ट्रेवल्स जबलपुर बस (एमपी-22पी.0359) की हालत ठीक नहीं है। लग्जरी बस से जाएंगे। यात्रियों ने बस पर चढकऱ देखा और दूसरी बस (यूपी-70जीटी-9988) से नागपुर के लिए रवाना हुए

By: Rajesh Patel

Updated: 23 Feb 2021, 09:08 AM IST

RTO : Direct passengers in Rewa refuse to climb on Khatara bus
rajesh patel IMAGE CREDIT: patrika

रीवा. सीधी हादसे से जिम्मेदार भले ही सबक नहीं ले रहे हैं। लेकिन, यात्री खटारा बसों से किनारा करने लगे हैं। सोमवार सरदार पटेल अंरराज्यीय बस स्टैंड रीवा में ऐसा ही हुआ। सीधी से आए बीस यात्रियों ने नए बस स्टैंड पर खटारा बस पर चढऩे से इंकार कर दिया। बोले मिर्जा ट्रेवल्स जबलपुर बस (एमपी-22पी.0359) की हालत ठीक नहीं है। लग्जरी बस से जाएंगे। यात्रियों ने बस पर चढकऱ देखा और दूसरी बस (यूपी-70जीटी-9988) से नागपुर के लिए रवाना हुए।

बस की हालत ठीक होगी तभी चढ़ेंगे

शहर स्थित नए बस स्टैंड पर सीधी के यात्री नागपुर जाने के लिए पहुंचे। यहां पर यात्रियों ने कहा कि बस की हालत ठीक होगी तभी चढ़ेंगे। परिचालक ने कहा पहले बस पर चढकऱ देखिए फिर चढि़ए। यात्रियों के बीच से एक युवक बस देखने के लिए सबसे पहले मिर्जा ट्रेवल्स जबलपुर की बस (एमपी-22पी.0359) को देखने के लिए पहुंचा। इसके बाद वह साथियों से बताया कि बस कबाड़ है। बस का पिछड़ा गेट रस्सी से बंधा हुआ है। खिडक़ी तार से बंधी है। दरवाजे का शीश टूटा हुआ है।
छिंदवाड़ा तक चलती है
पूछने पर परिचालक ने बताया कि 61 सीटर बस है। रीवा से छिंदवाड़ा तक चलती है। साढ़े चार बजे छूटेगी। यात्री छोटू, नरेश, शिवलाल साकेत आदि ने कहा कि अभी हाल में ही सीधी में हादसा हो गया। हमारे गांव के बगल के तीन लोगों की जान चली गई। खटारा से लग्जरी बस जाएंगे। खटारा पर चढऩे से इंकार करते हुए बगल में खड़ी पूजा नागपुर ट्रेवल्स (यूपी-70जीटी-9988) के पास गए। बस पर चढकऱ देखा फिर चढकऱ नागपुर के लिए रवाना हो गए।
जिम्मेदारों के चश्में नहीं दिख रही खटारा बसें
हैरान करने वाली बात तो यह कि नए बस स्टैंड पर जिस बस को यात्रियों ने खटारा बताकर चढऩे से इंकार कर दिया, वह बस छिंदवाड़ा से रीवा तक रोज सवारियों की सुरक्षा से खिलवाड़ कर रही है। हादसे के बाद भी न तो जिम्मेदार और न ही बस आपरेटर सबक ले रहा है। । जिम्मेदारों के चश्में रस्सी से बंधे गेट व तार से बंधी खिडक़ी व मुख्य गेट का टूट शीशे नहीं दिख रहे हैं। यही नहीं इस बस में न तो फस्र्ट एड बाक्स है और न ही अग्निशमन टंकी है। चालक व परिचालक ड्रेस तक नहीं पहने। यही नहीं शीशे पर वाहन की जानकारी भी चस्पा नहीं की गई है।

 'Death' of riders hovering in buses coming from Indore-Bhopal, Gwalior-Nagpur to Rewa
rajesh patel IMAGE CREDIT: patrika
Show More
Rajesh Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned