मलेरिया विभाग में नहीं स्टाफ, कैसे हो पाएगा लार्वा सर्वे, बारिश के बाद पनपने लगे हैं मच्छर

शहर में जगह-जगह जमा है पानी

By: sachendra tiwari

Published: 28 Jul 2021, 08:40 PM IST

बीना. मलेरिया विभाग में दो साल से इंस्पेक्टर का पद खाली है और खुरई के इंस्पेक्टर को यहां का चार्ज दिया गया है। इसके अलावा मलेरिया विभाग में कोई भी स्टाफ नहीं है। साथ ही स्वास्थ्य विभाग का अमला इस वर्ष वैक्सीनेशन में लगा हुआ है, जिससे लार्वा सर्वे का कार्य भी नहीं हो पा रहा है। मलेरिया विभाग द्वारा मलेरिया और डेंगू का प्रकोप रोकने के लिए बारिश शुरू होते ही लार्वा का सर्वे शुरू कराया जाता है, लेकिन इस वर्ष शहर में इसकी शुरुआत नहीं हुई है और ग्रामीण क्षेत्रों में सिर्फ आशा कार्यकर्ताओं के भरोसे यह सर्वे है। एएनएम सहित अन्य अमला वैक्सीनेशन में लगा हुआ है। खुरई में पदस्थ मलेरिया इंस्पेक्टर धनेश्वर भूर्तिया ने बताया कि उन्हें बीना का भी चार्ज मिला है और ग्रामीण क्षेत्रों में कहीं-कहीं आशा कार्यकर्ता सर्वे कर रही हैं। कुछ गांवों में दवा का छिड़काव भी कराया गया है। एमपीडब्ल्यू न होने के कारण शहर में लार्वा सर्वे नहीं हो पाता है। उन्होंने बताया कि इस वर्ष मलेरिया की करीब 14 हजार जांच हो चुकी हैं, लेकिन पॉजीटिव रिपोर्ट नहीं आई है।
शहर में जगह-जगह जमा है पानी
बारिश के बाद शहर में जगह-जगह पानी भरा हुआ है और मलेरिया, डेंगू जैसे मच्छरों का लार्वा यहां पनप सकता है, लेकिन न तो नगरपालिका द्वारा सर्वे कराया जा रहा और न ही स्वास्थ्य विभाग द्वारा। जमा पानी में दवा भी नहीं डाली जा रही है, जिससे बीमारियां फैलने का खतरा बना हुआ है।
वैक्सीनेशन में लगा है स्टाफ
स्वास्थ्य विभाग का अधिकांश स्टाफ वैक्सीनेशन में लगा है, जिससे अन्य कार्य प्रभावित हो रहे हैं। मलेरिया विभाग में भी स्टाफ नहीं है, जिससे लार्वा सर्वे भी नहीं हो पाता है। शहर में नगरपालिका द्वारा लार्वा सर्वे किया जाता है।
डॉ. संजीव अग्रवाल, बीएमओ, बीना

Show More
sachendra tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned