video: यहां के विधायक ने कहा हमारे संपर्क में हैं कांग्रेस के दो विधायक, भाजपा की सरकार बनी तो होगा प्रमोशन

भाजपा के धरना, प्रदर्शन में हुए थे विधायक शामिल

बीना. मप्र में भाजपा की सरकार न बनने से विधायकों के मन की पीड़ा बाहर आने लगी है। शनिवार को डबल लॉक गोदाम के पास धरना तो किसानों की मांगों को लेकर किया गया था, लेकिन विधायक महेश राय ने अपनी पीड़ा भी मंच से बयां कर दी।
उन्होंने कहा कि कर्नाटक के बाद मप्र में ही भाजपा की सरकार बनने की बारी है और हमें उम्मीद ज्यादा है, क्योंकि हम दूसरी बार के विधायक हैं और नंबर गेम में पीछे रह गए नहीं तो आज हम भी मंत्री होते। अब सरकार बनी तो प्रमोशन की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि पार्टी से सिंधिया और केपी सिंह भी नाराज हैं। यही नहीं राजगढ़ के पास के दो विधायक के संपर्क में होने की बात भी कही। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि अधिकारियों के ट्रांसफर के लिए कांग्रेस नेता बिचौलिया बनकर घूम रहे हैं और ट्रांसफर का भय दिखाकर उन्हें ब्लैकमेल कर रहे हैं। अभी पच्चीस शिक्षकों का ट्रांसफर हुआ था, जिनसे ट्रांसफर रुकवाने 40-40 हजार रुपए मांगे गए थे। संचालन मंडल अध्यक्ष शुभम तिवारी ने किया। कार्यक्रम के बाद राज्यपाल के नाम तहसीलदार को ज्ञापन सौंपा। इस अवसर पर कुंवर सिंह, सुनील सीरोठिया, शिवकुमार ठाकुर, घनश्याम साहू, लोकेन्द्र सिंह, भूपेन्द्र सिंह, मनोज शर्मा, पूरन सिंह, नवीन पालीवाल, मदन राजपूत, परमानंद सोलंकी, विमल अहिरवार आदि उपस्थित थे।
कांग्रेसियों का करेंगे घेराव
विधायक ने कहा कि झूठे वादे करने वाले कांग्रेसियों का भी यदि घेराव करना पड़ा तो करेंगे। यदि झूठे वादे करने वाले कांग्रेसी नहीं आए तो जैसे कहते है कि धारा 144 में देखते ही गोली मारने के आदेश रहते हैं वैसे ही यदि हमें कांग्रेसी नेता दिखेंगे तो गोली तो नहीं मारेंगे कुछ ओर कर देंगे।
बढ़ाई जाएं पीओएस मशीन
डबल लॉक गोदाम पर हो यूरिया वितरित करने में हो रही देरी पर विधायक ने कहा कि यहां पीओएस मशीनें बढ़ाई जाएं, जिससे किसानों को जल्द यूरिया मिल सके और छोटे किसान को पांच, बड़े किसान को दस बोरी यूरिया दिया जाए। किसानों का दो लाख तक का कर्ज माफ किया जाए, क्योंकि कर्ज माफ न होने से किसान डिफाल्टर हो गए हैं। बोनस राशि किसानों को जल्द दी जाए।
पुराना फ्लेग्स रहा चर्चा में
भाजपा के धरना स्थल पर जो फ्लेग्स लगाया गया था वह पुरा था, उसमें पूर्व सांसद की फोटो थी और नेता प्रतिपक्ष की फोटो गायब थी। साथ ही फ्लेग्स पर कागज छिपकाकर लिखा लिखा गया था। इस फ्लेग्स की चर्चा सोशल मीडिया सहित अन्य जगहों पर रही।
डेम के पास से पानी न लेने का जताया विरोध
बेतवा नदी पर बने रिफाइनरी के डेम के पास से सिंचाई के लिए पानी न लेने का आदेश कलेक्टर द्वारा जारी किया गया है, इस आदेश का भी भाजपा नेताओं द्वारा विरोध किया गया।

sachendra tiwari Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned