फरमान: शस्त्र लाइसेंस धारकों को अब यह भी बताना होगा कहाँ चलाए कारतूस

Highlights

  • शस्त्र लाइसेंस लेने के समय से अब तक का देना होगा पूरा ब्यौरा
  • पूरा ब्याैरा देने के बाद ही चढ़ सकेंगे लाइसेंस पर नए कारतूस
  • खाली खाेखों के साथ-साथ यह भी बताना हाेगा कहां चलाए

By: shivmani tyagi

Published: 13 Mar 2020, 01:19 PM IST

सहारनपुर। शस्त्र लाइसेंस धारकों को अब कारतूसों का पूरा ब्यौरा देना होगा। यह भी बताना हाेगा कि, शस्त्र लाइसेंस पर आपने कुल कितने कारतूस खरीदे और उनका इस्तेमाल कब-कब और किन परिस्थितियों में किया। अगर आप करतूसों को चलाने का कोई सटीक कारण नहीं बता पाते हैं तो ऐसी परिस्थिति में आपका लाइसेंस रद्द भी हो सकता है।

यह भी पढ़ें: बड़ा खुलासाः 50 करोड़ की संपत्ति के लिए बेटे ने की थी अपोलो सर्कस के मालिक व पूर्व बसपा विधायक की हत्या

शस्त्र लाइसेंस धारकों को हर वर्ष अपने कारतूसों का ब्यौरा देना होता है। नए कारतूस खरीदने से पहले डीलर काे यह बताना पड़ता है कि लाइसेंस पर कितने कारतूस खरीदें। इसकी जानकारी डीलर के पास जमा कराने के बाद ही नए कारतूस मिलते हैं। इतना ही नहीं, नए कारतूस खरीदने के लिए पुराने कारतूसों के खोखे भी जमा कराने पड़ते हैं। यह व्यवस्था पहले से चली आ रही है लेकिन, अब कारतूसों की कालाबाजारी और दुपयोग की आशंका को देखते हुए सतर्कता बढ़ा दी गई है।

यह भी पढ़ें: मंडप में पहुंचने से पहले दूल्हे को उठा ले गए बदमाश, दुल्हन कर रही इंतजार

नई व्यवस्था के बाद, अब लाइसेंस धारकों को यह भी बताना होगा कि उन्होंने जो खोखे के जमा कराए हैं वह किन परिस्थितियों में चलाए थे और कहां-कहां चलाए थे। माना जा रहा है कि, नई व्यवस्था से हर्ष फायरिंग पर राेक लगेगी। सहारनपुर सिटी मजिस्ट्रेट एसके सोनी से जब इस बारे में बात की गई ताे उन्हाेंने बताया कि, हर्ष फायरिंग की घटनाओं को रोकने के लिए सरकार गंभीर है। अक्सर देखा जाता है कि हर्ष फायरिंग में शस्त्र लाइसेंस का दुरुपयोग किया जाता है और ऐसे में घातक दुर्घटना होने की आशंका भी बनी रहती है।

यह भी पढ़ें: Coronavirus: भाजपा विधायक ने सीएम योगी के प्रमुख सचिव से की नोएडा के स्कूल व सिनेमाघरों को बंद करने की मांग

यह भी बताया कि सार्वजनिक स्थलों पर या फिर हर्ष फायरिंग पर लाइसेंस धारक का शस्त्र लाइसेंस निरस्त करने का प्रावधान है। ऐसे में अगर कोई शस्त्र लाइसेंस हर्ष फायरिंग करता है तो उसके खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने यह भी बताया कि सभी शस्त्र डीलरों को यह निर्देश जारी कर दिए गए हैं कि वह कारतूसों की खरीद करने वाले शस्त्र लाइसेंस धारकों से पूरी जानकारी लेंगे और उसके बाद ही उन्हें नए कारतूस जारी करेंगे।

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned