मुसलमानों को बद्रीनाथ छोड़ने या गोमूत्र पीने के बयान पर देवबंदी उलेमा ने दी ये चेतावनी, देखें वीडियो-

lokesh verma

Publish: Nov, 15 2017 12:12:24 (IST) | Updated: Nov, 15 2017 12:17:24 (IST)

Saharanpur, Uttar Pradesh, India
मुसलमानों को बद्रीनाथ छोड़ने या गोमूत्र पीने के बयान पर देवबंदी उलेमा ने दी ये चेतावनी, देखें वीडियो-

देवबंदी उलेमा ने कहा, बद्रीनाथ धाम बद्रीनाथ नहीं, बल्कि बदरुद्दीन शाह है, मुसलमानों को दिया जाए यह धार्मिक स्थल

देवबंद. अयोध्या में राम मंदिर या मस्जिद का मुद्दा अभी सुलझा भी नहीं है कि अब बद्रीनाथ धाम को लेकर एक नई बहस छिड़ गई है। उत्तराखण्ड के रक्षा अभियान दल ने मुसलमानों को बद्रीनाथ छोड़ने की धमकी देते हुए कहा है कि जो मुसलमान बद्रीनाथ में रह रहे हैं उनके लिए गोमूत्र और गंगाजल पीना अनिवार्य होगा, अगर वे गोमूत्र और गंगाजल पी सकते हैं तो ही बद्रीनाथ में रह सकते हैं वरना वे बद्रीनाथ छोड़ दें। रक्षा अभियान दल के इस बयान के बाद देवबंद के उलेमाओं ने तीखा जवाब दिया है।

वीडियो देखने के लिए यहां क्लिक करें- https://youtu.be/4xTacEWFEDU

मदरसा दारुल उलूम निशवाह के मौलाना अब्दुल लतीफ कासमी ने कहा है कि इस दल के अंदर कोई भी पढ़ा लिखा व्यक्ति नहीं है। दल के पदाधिकारियों को इतिहास पता होना चाहिए ऐसा लगता है कि उन्होंने इतिहास नहीं पढ़ा है। उलेमा ने कहा है कि इतिहास ना मालूम होने की वजह से ये फि‍जूल की बकवासबाजी कर रहे हैं। असली बात तो यह है कि बद्रीनाथ धाम बद्रीनाथ नहीं है वो तो बदरूद्दीन शाह है। उलेमा ने साफ शब्दों में कहा है कि यह स्थान कायदे में तो मुसलमानों का धार्मिक स्थल है। इसे मुसलमानों के हवाले कर देना चाहिए, क्योंकि‍ यह स्थान बदरूद्दीन शाह है। उलेमा ने यह भी कहा कि नाथ लगाने से कोई हिन्दू नहीं हो जाता। यह तंजीम पहले इतिहास उठाकर देखे। वह मुसलमानों का धार्मिक स्थल है। उलेमा ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मांग की है कि इतिहास के मुताबिक बद्रीनाथ धाम को मुसलमानों के हवाले किया जाए और उसको बद्री शाह का नाम वापस लौटाया जाए।

इतना ही नहीं उन्होंने उल्टा सीधा बयान देने वालों के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की है। उत्तराखंड रक्षा दल की ओर से दी गई धमकी और उस पर देवबंद के उलेमा का यह जवाब, देश में एक नई बहस को जन्म दे सकता है। अभी अयोध्या में राम मंदिर या मस्जिद का मामला सुलझा नहीं था और अब बद्रीनाथ और बदरुद्दीन शाह का नया मामला सामने आ गया है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned