बेटे की सगाई में आए पांच लाख रुपये लाैटाकर किसान ने कहा दहेज लेना पाप

  • उत्तराखंड के रामगनर लखनाैती से आया था शगुन
  • दूल्हे के पिता ने कहा दहेज लेना पाप सारे पैसे लाैटाए
  • सिर्फ एक रुपया लेकर किया विवाह का परण

By: shivmani tyagi

Updated: 29 Nov 2020, 09:42 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

सहारनपुर (Saharanpur ) नंदी फिराेजपुर गांव के एक किसान ने अपने बेटे की सगाई में आई दहेज की सारी रकम लाैटाकर मिसाल पेश की है। राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के जिलाध्यक्ष सुखबीर सिंह के बेटे विलास चाैधरी की सगाई में पांच लाख रुपये कैश आया था जिसे उन्हाेंने दहेज नहीं लेने की बात कहते हुए लाैटा दिया और सिर्फ एक रुपये का सिक्का ही स्वीकार किया।

यह भी पढ़ें: 12000 करोड रुपए की लागत से बनेगा दिल्ली-यूपी और यूके को जोड़ने वाला ग्रीन फील्ड एक्सप्रेसवे

किसान के बेटे की यह सगाई क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी हुई है। वर्तमान समय में जब चारों और लाेग अधिक से अधिक दहेज की चाहत कर रहे हैं ऐसे में किसान नेता अपने बेटे की सगाई में आई दहेज की सारी रकम लाैटाकर किसानाें के लिए नजीर बन गए हैं। काेतवाली देहात क्षेत्र के गांव नंदी फिराेजपुर के रहने वाले सुखबीर सिंह के बेटे विलास चाैधरी की रविवार काे गांव में ही सगाई थी। पड़ाेसी राज्य उत्तराखंड के रामगनर लखनाैती से लड़की वाले शगुन लेकर आए थे। शगुन में एक लाख रुपये कैश के साथ-साथ कार के लिए चार लाख रुपये अलग से थे। इस तरह कुल पांच लाख रुपये रकम आई थी। इस पूरी रकम काे लड़के के पिता ने यह कहकर लड़की के पिता काे वापस कर दिया कि वह दहेज लेना नहीं चाहते। इससे युवा पीढ़ी पर गलत प्रभाव पड़ता है।

यह भी पढ़ें: अच्छी खबर : एक दिसंबर से पटरी पर लौटेगी इंटरसिटी एक्सप्रेस

लड़के के पिता किसान नेता हैं, उन्हाेंने यह भी कहा कि वह दहेज प्रथा के खिलाफ है। किसानों की माली हालत ठीक नहीं ऐसे मे किसानाें काे सबसे अधिक चिंता बेटी की शादी काे लेकर रहती है। यही कारण है कि वह दहेज प्रथा का विराेध करते हैं और इसी क्रम में बेटे की शादी में आया सारा पैसा लाैटा रहे हैं। लड़के के पिता की यह बातें सुनकर शगुन लेकर आए मेहमान भी चकित रह गए और इस परिवार की तारीफ करते नहीं थके। यह सगाई अब क्षेत्र में चर्चा का विषय बनी हुई है

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned