scriptsequence of bad news coming out in Ranthambore Tiger Project is not stopping. | रणथम्भौर में नहीं थम रहा बुरी खबर का सिलसिला, एश्वर्या के बाद गर्भवती जूनियर इंदू ने तोड़ा दम | Patrika News

रणथम्भौर में नहीं थम रहा बुरी खबर का सिलसिला, एश्वर्या के बाद गर्भवती जूनियर इंदू ने तोड़ा दम

locationसवाई माधोपुरPublished: Feb 05, 2024 08:49:26 am

Submitted by:

Kirti Verma

रणथम्भौर बाघ परियोजना में इन दिनों बुरी खबर सामने आने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। शनिवार को रणथम्भौर की फलौदी रेंज की बाघिन टी-99 यानी एश्वर्या गर्भपात का शिकार हो गई। वहीं रविवार को बाघिन टी-60 की मौत ने माहौल गमगीन कर दिया है।

tigress_.jpg

रणथम्भौर बाघ परियोजना में इन दिनों बुरी खबर सामने आने का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। शनिवार को रणथम्भौर की फलौदी रेंज की बाघिन टी-99 यानी एश्वर्या गर्भपात का शिकार हो गई। वहीं रविवार को बाघिन टी-60 की मौत ने माहौल गमगीन कर दिया है। वन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार वनकर्मियों को गश्त के दौरान रणथम्भौर के लाहपुर और गुढ़ा वन क्षेत्र में गर्भवती बाघिन का शव नजर आया था। इसके बाद विभाग की ओर से कार्रवाई शुरू की गई।

जूनियर इंदू के नाम से जानी जाती थी बाघिन


वनाधिकारियों ने बताया कि बाघिन टी-60, बाघिन टी-31 की संतान थी। बाघिन टी-31 को इंदू के नाम से भी जाना जाता था। ऐसे में बाघिन टी-60 को वन विभाग और वन्यजीव प्रेमियों की ओर से जूनियर इंदू का भी नाम दिया गया।

दो बार दिया शावकों को जन्म


रणथम्भौर के नॉन ट्यूरिज्म क्षेत्र में बाघिन टी-60 का विचरण रहता था। 4 मार्च 2016 को पहली बार यह बाघिन तीन शावकों के साथ नजर आई थी। इसके बाद अप्रेल 2019 में यह बाघिन शावकों के साथ नजर आई थी।

राजबाग नाके पर किया अंतिम संस्कार


वनाधिकारियों ने बताया कि वन विभाग की टीम बाघिन को शहर स्थित राजबाग नाके पर ले आई। वहां शाम को वन व प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में शव का अंतिम संस्कार किया गया। वनधिकारियों ने बताया कि पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के कारणों का स्पष्ट रूप से खुलासा हो सकेगा।

यह भी पढ़ें

रणथम्भौर में खुशी मिलने से पहले ही हो गई काफूर, बाघिन एश्वर्या के प्रीमेच्योर बर्थ के कारण हुआ गर्भपात




रणथम्भौर के गुढा वन क्षेत्र में बाघिन टी-60 का शव मिला है। बाघिन के शव का पोस्टमार्टम कराया गया है। पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आने के बाद ही इस संबंध में स्पष्ट रूप से कुछ कहा जा सकता है।
मोहित गुप्ता, उपवन संरक्षक, रणथम्भौर बाघ परियोजना, सवाईमाधोपुर।

यह भी पढ़ें

अफसर ले गए फायदा, विदेश शिक्षा का सपना लेकर गए छात्र कर्ज में डूबे

ट्रेंडिंग वीडियो