किसी ने कहा चुनावी बजट, किसी ने कहा पूरी हुई उम्मीद

किसी ने कहा चुनावी बजट, किसी ने कहा पूरी हुई उम्मीद

Sunil Vandewar | Updated: 01 Feb 2019, 05:12:09 PM (IST) Seoni, Seoni, Madhya Pradesh, India

बजट की घोषणा जानने लोगों में दिखी उत्सुकता

सिवनी. शुक्रवार को लोग टीवी पर टकटकी लगाए सरकार के बजट को देखते रहे। बजट जानने लोगों में खासी उत्सुकता थी। इस बजट की घोषणा के बाद कोई इसे चुनावी बजट बता रहा है, तो कोई इसे मध्यम वर्ग के लिए फायदेमंद बता रहा है।
घोषणाओं पर गौर करें तो मध्यम वर्गीय परिवार की उम्मीदें इस बजट से बढ़ी नजर आ रही हैं। शहर से लेकर गांव तक लोगों का कहना है कि नोटबन्दी और जीएसटी का क्या फायदा हुआ ये अभी तक समझ नही आ रहा था, पर इस बजट के पेश होने से इसका एक बड़ा फायदा मध्यम वर्ग को मिला है। नोटबन्दी ओर जीएसटी से टैक्स की कुल कमाई में बढ़ोत्तरी हुई उसे ही सरकार ने चुनावी वर्ष में उपयोग कर हर तरफ से मार झेल रहे मध्यम वर्ग को बहुत बड़ी राहत दी है। मतलब सरकार की आय पर कोई फर्क नही पड़ा और देश के एक बड़े तबके को बड़ी राहत दी, जो तबका अभी तक सबसे बड़ा टेक्स पेयर था निश्चित ही सरकार के इस कदम से बड़ी राहत मिलेगी।
लोगों ने कहा कि एक बार वित्त मंत्री ने अपनी स्पीच में कहा था कि सबसे ज्यादा टेक्स मध्यम वर्ग से ही आता है सरकार मध्यम वर्गीय को फायदा देना चाहती है पर सरकार मजबूर है और अभी वित्तीय हालात ऐसे नही हैं, सरकार तभी कोई बड़ा फायदा पहुंचा सकती है जब सरकार की आय में बढ़ोत्तरी हो।
बजट 2019 की घोषणाएं -
बजट में 5 लाख रुपए सालाना कमाई पर इनकम टैक्स नहीं। पहले 2.5 लाख रुपए से ऊपर की सालाना आय पर इनकम टैक्स चुकाना पड़ता था। अब 40 हजार रुपए तक के बैंक के ब्याज पर टैक्स नहीं लगेगा। इनकम टैक्स के लिए 3 स्लेब बनाई गयीं। पहली स्लैब में 5 लाख टन की सालाना आय पर कोई टैक्स नहीं। दूसरी स्लैब यानी 5.10 लाख रुपए पर 20 प्रतिशत का टैक्स चुकाना होगा। तीसरी स्लैब में 10 लाख रुपए से अधिक आय पर 30 प्रतिशत टैक्स देय होगा।
स्टैण्डर्ड डिडक्शन को 40 हजार रुपए से बढ़ाकर 50 हजार रुपए किया गया। निवेश के साथ 6ण्5 लाख रुपए की आमदनी पर टैक्स नहीं। पहले 5 लाख रुपए की आमदनी पर 13 हजार रुपए टैक्स देना पड़ता था अब वह शून्य हुआ। 7.5 लाख रुपए तक की आमदनी पर पहले 65 हजार रुपए टैक्स चुकाना पड़ता था जो अब घटकर 49920 रुपए होगा। 10 लाख रुपए की आमदनी पर 1.17 लाख रुपए इनकम टैक्स के रूप में वसूले जाते थे जो अब घटकर 99840 रुपए हो गए हैं। ठीक इसी तरह 20 लाख रुपए की आमदनी पर पहले 4.29 लाख रुपए का इनकम टैक्स देना होता था जो अब 4.02 लाख रुपए होगा। करदाताओं के लिए यह अब तक की सबसे बड़ी इनकम टैक्स छूट होगी। 40 हजार रुपए तक के ब्याज पर टैक्स नहीं लगेगा। भारत के इतिहास में पहली बार इनकम टैक्स पर इतनी बड़ी छूट नहीं दी गयी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned