script ठंड बढऩे से पैरालिसिस व ब्रेन हेमरेज के मरीज बढ़े, 50 उम्र के पार वालों में आ रही ज्यादा दिक्कत | Due to increase in cold, patients of paralysis and brain hemorrhage ha | Patrika News

ठंड बढऩे से पैरालिसिस व ब्रेन हेमरेज के मरीज बढ़े, 50 उम्र के पार वालों में आ रही ज्यादा दिक्कत

locationशाहडोलPublished: Dec 29, 2023 12:15:42 pm

Submitted by:

shubham singh

अस्पताल में हर रोज पहुंच रहे 4-5 केस, चिकित्सक दे रहे जरूरी सलाह

ठंड बढऩे से पैरालिसिस व ब्रेन हेमरेज के मरीज बढ़े, 50 उम्र के पार वालों में आ रही ज्यादा दिक्कत
ठंड बढऩे से पैरालिसिस व ब्रेन हेमरेज के मरीज बढ़े, 50 उम्र के पार वालों में आ रही ज्यादा दिक्कत

शहडोल. जिले में बीते 20 दिनों से कड़ाके की ठंड पडऩी शुरू हो गई है। दिन में धूप व शाम को ठिठुरन वाली ठंड से बुजुर्गों के स्वास्थ पर विपरीत प्रभाव पडऩे लगा है। बदलते तापमान से बुजुर्गों में पैरालिसिस व ब्रेन हेमरेज के साथ ही सांस की समस्या बढऩे लगी है। जिला अस्पताल में हर रोज 4-5 केस पहुंच रहे हैं। चिकित्सक भर्ती करने की सलाह के साथ सावधानी बरते की सलाह दे रहे हैं। चिकित्सकों की माने तो एसे मौसम में ठंड में सेहत का खास ध्यान रखना चाहिए, क्योंकि ठंड के कारण खांसी, सर्दी जुकाम, गले में संक्रमण, फ्लू के अलावा अस्थमा, हार्ट अटैक व पैरालिसिस का भी खतरा रहता है।
खानपान में सावधानी बरतने दे रहे सलाह
स्ट्रोक से बचने के लिए चिकित्सक मरीजों को जरूरी सलाह दे रहे हैं। पैरालिसिस से बचने के लिए सुबह व शाम ठंड से बचना चाहिए, नहाने में गरम पानी का उपयोग करना चाहिए, ठंडा भोजन करने से बचें, शरीरी को गरम रखने के लिए धूप में बैठें, शरीर में गुनगुने तेल से मालिश करें, बुजुर्गों को 24 घंटे गरम कपड़ा पहनकर रहना चाहिए व गर्म तासीर वाले आहार लेना चाहिए। लगातार गिर रहे तापमान के चलते ठंड बढ़ गई है। ऐसे में ठंड से बचने के प्रयास करने चाहिए।
टॉपिक एक्सपर्ट: ठंड से सिकुडऩे लगती हैं नसें
जिला चिकित्सालय के डॉक्टर गंगेश टांडिया ने बताया कि ठंड बढऩे से शरीर की नसे सिकुडऩे लगती हैं। जिसके कारण रक्त संचार प्रभावित होता है। इस वजह से हार्ट अटैक व बे्रन हेमरेज व पैरालिसिस का खतरा बढ़ जाता है। बुजुर्गों को सुबह-शाम सैर नहीं करने व घरों में ही रहने की सलाह दी जा रही है। खास तौर पर बच्चे, बुजुर्ग, मधुमेह, ब्लड प्रेशर व हृदय की बीमारियों से पीडि़त मरीजों
को अधिक सतर्क रहने की जरूरत है।
केस 1
जिला अस्पताल में भर्ती पैरालिसिस के मरीज सीताराम 75 वर्ष ने बताया कि वह सुबह 6 बजे सोकर उठे तो अचानक हाथ पैर सुन्न होने लगा, कुछ ही देर में शरीर एक अंग काम करना बंद कर दिया। जिसके बाद परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे जहां चिकित्सकों ने भर्ती करने की सलाह दी।
केस 2
हथपुरा निवासी मनोज सिंह 50 वर्ष ने बताया कि सुबह उठा तो सिर में असहनीय दर्द हुआ, परिजन आनन-फानन में लेकर जिला चिकित्सलय लेकर पहुंचे, जहां चिकित्सकों ने सीटीस्कैन कराने की सलाह दी। रिपोर्ट में पता चला कि नस में खून
जमा है। जिससे शरीर में सुन्नपन है।
केस 3
गोहपारू के गुर्रा निवासी ज्ञान सिंह 55 वर्ष ने बताया व खेती किसानी का कार्य करता है। ठंड बढ़ते ही सर्दी जुखाम के साथ सांस लेने में तकलीफ व हाथ पैर में सूजन आना शुरू हो गया था। इलाज के दौरान चिकित्सक भर्ती करने की सलाह दी है, बीते तीन दिनों से उपचार
जारी है।
केस 4
सेमरिया सलैया निवासी शुद्धू ङ्क्षसह 60 वर्ष ने बताया कि सोमवार की सुबह अचानक तेज खांसी के साथ सांस फूलने लगी व सांस लेने में समस्या शुरू हो गई। परिजन अस्पताल लेकर पहुंचे तो चिकित्सक ने जरूरी जांच कराने के बाद भर्ती कर लिया है। आराम मिलने
लगा है।

ट्रेंडिंग वीडियो