हत्या कर बाइक से दूसरे गांव ले गए शव, फिर पेट्रोल डालकर स्कूटी सहित लगाई आग

राजस्थान के सीकर जिले के दादिया थाना इलाके के पलासिया स्टैंड के पास दो दिन पहले स्कूटी सहित जले युवक की हत्या तारपुरा में ही कर दी गई थी।

By: Sachin

Published: 21 Sep 2020, 10:01 AM IST

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के दादिया थाना इलाके के पलासिया स्टैंड के पास दो दिन पहले स्कूटी सहित जले युवक की हत्या तारपुरा में ही कर दी गई थी। इसके बाद उसे दो युवक बाइक पर पलासिया में ले गए। जहां सुनसान रास्ते में पेट्रोल डालकर उसके व स्कूटी के आल लगाकर आरोपी फरार हो गए। पुलिस को घटनास्थल के पास से पेट्रोल की बोतल भी बरामद हुई है। फिलहाल तीन युवक पुलिस के संदेह के घेरे में माने जा रहे है। जिन्होंने ही शुभकरण को फोन कर मिलने के लिए बुलाया था। फिलहाल युवक की हत्या के कारणों का पता नहीं लग पाया है। पुलिस पिपराली रोड पर लगे सीसीटीवी फुटेज के साथ कॉल डिटेल खंगालने में लगी हुई है। डीएसपी ग्रामीण राजेश आर्य ने बताया कि जल्द हत्या के आरोपियों को पकड़ लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि पुलिस की कई टीमें जांच में लगी है। पुलिस को कई अहम सुराग मिले है।

ये था मामला
दो दिन पहले पलासिया स्टैंड से पांच सौ मीटर की दूरी पर रात करीब एक बजे शुभकरण पुत्र सांवरमल निवासी बागडी लक्ष्मणगढ़ की हत्या कर शव को स्कूटी के साथ ही जला दिया गया। बदमाशों ने पहचान युवक की पहचान छिपाने के लिए आग लगा जला दिया। पड़ोस के लोगों ने आग जलती देखकर पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने आग को बुझाकर स्कूटी के नंबरों के आधार पर युवक की पहचान की। पुलिस को घटनास्थल से एक खाली पेट्रोल की बोतल भी बरामद हुई है। शुभकरण लक्ष्मणगढ़ में एल्युमीनियम व शीशे की दुकान करता है। फिलहाल आरोपियों का कुछ पता नहीं लग सका है। पुलिस युवक के मोबाइल में संदिग्ध मोबाइल नंबरों व सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है। मृतक के परिजनों ने हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है।


रात 9.30 बजे तक तारपुरा में ही मिली लोकेशन
जांच में सामने आया है कि शुभकरण बुआ के घर से करीब आठ बजे निकल गया था। पूछताछ में लोगों ने बताया कि उसे काफी रोकने का प्रयास किया था। वह पांच मिनट में वापस आने की बात बोलकर निकल गया था। वहीं रात को 9.30 बजे तक शुभकरण की लोकेशन तारपुरा में ही मिली है। शुभकरण का मोबाइल फोन भी करीब 9.30 बजे तक चालू रहा है। पुलिस का भी मानना है कि शुभकरण की हत्या रात को 10 और 11 बजे के बाद की गई है। बाद में हत्या कर शव को पलासिया में सुनसान रास्ते में ले जाकर जला दिया गया है, हालांकि पुलिस अभी कुछ भी स्पष्ट कहने से इंकार से कर रही है।


पहचान छिपाने के लिए लगाई गई आग
बदमाशों ने शुभकरण की हत्या कर पहचान छिपाने के लिए आग लगा दी। शव को पलासिया में सुनसान रास्ते में ले जाकर आग लगा दी। पड़ोस में ही महावीर प्रसाद का घर बना हुआ है। रात को उनके बच्चे आग की लपटों को देखकर नहीं जागते तो चंद मिनटों में ही सब कुछ राख हो जाता। स्वदेश मूंड ने बताया कि वे घर में सो रहे थे। तभी अचानक आंख खुली तो आग की लपटें देखी। परिवार को जगाया और नजदीक गए तो युवक जलता हुआ मिला। उसके पैर सिकड़े हुए थे और हाथ छाती पर लगे हुए थे। शव भी मुंह के बल औंधा पड़ा हुआ था।


ममेरे भाई को दोस्तों से मिल आने की बात कहीं

जांच में पता लगा कि शुभकरण को करीब 9.30 बजे ममेरे भाई ने फोन किया था। तब तक उसका फोन भी चालू था। शुभकरण ने उसे दोस्तों से मिलकर कुछ देर के बाद आने की बात कहीं थी। उसके साथ तीन युवक थे। इन्हीें युवकों की पुलिस को तलाश है। शुभकरण की लक्ष्मणगढ़ में एल्मयुनीयम व शीशे की दुकान है। वह शाम को दुकान से घर आ गया था। इसके बाद गाड़ी को लक्ष्मणगढ़ के खुड़ीबडी निवासी मुकेश के पास खड़ी कर गया था। वहां से वह स्कूटी लेकर गया था।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned