राजस्थान: 25 हज़ार युवाओं को जल्द मिलेगी सरकारी नौकरी! जानें बेरोज़गारों के लिए गहलोत सरकार का प्लान

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की भर्तियों को लेकर हुई वीसी के बाद सभी विभाग अटकी भर्तियों के पेंच को सुलझाने में जुट गए हैं। इसके लिए सभी विभागों के भर्ती अनुभाग पिछले चार दिनों से इसी काम में लगे हैं। यदि सब कुछ ठीक रहा तो जून महीने में युवाओं की नौकरी की राह खुल सकती है।

By: nakul

Published: 22 May 2020, 10:38 AM IST

सीकर

प्रदेश में नियमों के फेर में उलझी सरकारी भर्तियों की राह जल्द खुल सकती है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की भर्तियों को लेकर हुई वीसी के बाद सभी विभाग अटकी भर्तियों के पेंच को सुलझाने में जुट गए हैं। इसके लिए सभी विभागों के भर्ती अनुभाग पिछले चार दिनों से इसी काम में लगे हैं। यदि सब कुछ ठीक रहा तो जून महीने में युवाओं की नौकरी की राह खुल सकती है।

फिलहाल कार्मिक विभाग व सीएमओ ऐसी भर्तियों की जानकारी जुटा रहा है जिनका अंतिम परिणाम भी जारी हो चुका और भर्ती में किसी तरह का विवाद भी नहीं है। इसके बाद न्यायालय में विचाराधीन भर्तियों को लेकर सभी विभागों के विधि विभाग से भर्ती के स्टेटस को लेकर जानकारी जुटाई जा रही है। दूसरी तरफ प्रथम पदस्थापन काउंसलिंग के आधार पर करने के सीएम के निर्देश के बाद कार्मिक सहित अन्य विभाग नए सिरे से होमवर्क में जुट गए हैं।

कार्मिक विभाग लेगा हर सप्ताह रिपोर्ट
अटकी भर्तियों को लेकर कार्मिक विभाग की प्रमुख शासन सचिव रोली सिंह की ओर से अब हर सप्ताह विभिन्न भर्तियों को लेकर संबंधित भर्ती एजेंसियों से प्रगति रिपोर्ट ली जाएगी। उन्होंने कर्मचारी चयन बोर्ड व लोक सेवा आयोग के अधिकारियों को जो भर्ती पूरी हो चुकी है उनके चयनित की सूची संबंधित विभागों को भिजवाने के निर्देश दिए हैं ताकि समय पर भर्ती प्रक्रिया पूरी हो सके।

...और ये हैं सरकारी दावे
15 महीने में नियुक्ति: 56 हजार 523 को
परिणाम जारी: 12 हजार 341 पदों के लिए

भर्ती के लिए विज्ञापन: 26 हजार से अधिक पदों के लिए

अटकी हैं 25 से ज्यादा भर्तियां
प्रदेश में 25 से अधिक बड़ी भर्ती उलझी हुई है। कर्मचारी चयन बोर्ड के जरिए पुस्तकालध्यक्ष भर्ती की परीक्षा हो गई थी, लेकिन प्रश्न पत्र आउट होने के कारण दुबारा परीक्षा नहीं हो सकी। हालांकि विभाग ने परीक्षा तिथि घोषित की थी, लेकिन लॉकडाउन की वजह से परीक्षा पर ब्रेक लगा हुआ है।


ये भर्तियां अटकीं, बेरोजगारों को है नौकरी का इंतजार

- वन रेंजर भर्ती 2018,

- फार्मासिस्ट भर्ती,

- कांस्टेबल भर्ती,

- पटवारी भर्ती,

- एएसआई भर्ती,

- कनिष्ठ अभियंता,

- आरएएस

- प्रयोगशाला सहायक,

- महिला पर्यवेक्षक,

- आंगनबाड़ी भर्ती,

- अग्निशमक वाहन चालक,

- स्कूल व्याख्याता,

- लिपिक भर्ती,

- एनटीटी भर्ती,

- प्रयोगशाला सहायक भर्ती चिकित्सा विभाग,

- कनिष्ठ अनुदेशक,

- सहायक कृषि अधिकारी,

- वरिठ अध्यापक,

- ग्रामसेवक व छात्रावास अधीक्षक

सहित अन्य भर्ती अटकी हुई है। इनमें से कई की परीक्षा भी हो चुकी है।

दस लाख से अधिक ट्वीट, बेरोजगारों की हुंकार
परीक्षाओं में पास होने के बाद भी नौकरी नहीं मिलने से बेरोजगारों में आक्रोश है। लॉकडाउन अवधि में पांच प्रमुख भर्तियों को लेकर बेरोजगारों ने ट्वीट के जरिए मुहिम शुरू की। इसमें अब तक दस लाख से अधिक ट्वीट हो चुके हैं। सबसे ज्यादा ट्वीट द्वितीय श्रेणी शिक्षक भर्ती, पुलिस भर्ती, आरएएस भर्ती 2018, कृषि पर्यवेक्षक, प्रयोगशाला सहायक व एलडीसी सहित अन्य भर्तियों को लेकर हुए हैं।


कैलेंडर के हिसाब से हो भर्ती
प्रदेश में कैलेंडर के हिसाब से भर्ती नहीं होने की वजह से बेरोजगारों को काफी नुकसान हो रहा है। सरकार को हर साल कैलेंडर घोषित करना चाहिए, ताकि अभ्यर्थी उस अनुरूप तैयारी कर सके।- उपेन यादव, प्रदेश प्रवक्ता, राजस्थान बेरोजगार एकीकृत महासंघ

nakul Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned