स्कूल, कॉलेज व विवाह स्थलों पर यूआईटी की बड़ी कार्रवाई, 500 से अधिक खातेदारों से छीना ये अधिकार

स्कूल, कॉलेज व विवाह स्थलों पर यूआईटी की बड़ी कार्रवाई, 500 से अधिक खातेदारों से छीना ये अधिकार

Vinod Singh Chouhan | Publish: May, 18 2018 10:58:01 AM (IST) Sikar, Rajasthan, India

कृषि भूमि पर बसे 580 स्कूल-कॉलेज, अस्पताल व विवाह स्थलों सहित व्यावसायिक कॉम्पलेक्सों का यूआईटी ने खातेदारी अधिकार छीन लिए है।

सीकर.

कृषि भूमि पर बसे 580 स्कूल-कॉलेज, अस्पताल व विवाह स्थलों सहित व्यावसायिक कॉम्पलेक्सों का यूआईटी ने खातेदारी अधिकार छीन लिए है। यूआईटी की ओर ने इन खातेदारों को 15 दिन में अतिक्रमी घोषित करने की भी कार्रवाई की जाएगी। यूआईटी सचिव रामनिवास जाट ने बताया कि पहले चरण में बड़े खातेदारों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। अगले चरण में अन्य खातेदारों को भी नोटिस थमाया जाएगा। यूआईटी के नोटिस जारी करते हुए खातेदारों में खलबली मच गई।
इससे पहले भी यूआईटी 1500 से अधिक खातेदारों को नोटिस भेज चुकी है। इसका खातेदारों ने काफी विरोध किया था। इसके बाद यूआईटी ने फिर से कार्रवाई शुरू की है। कुर्की और बेदखली की कार्रवाई भी यूआईटी की ओर से नोटिस में स्पष्ट किया कि मास्टर प्लान के बाद भी कृषि भूमि पर कुछ खातेदारों ने निर्माण कर लिया। सर्वे में सामने आया कि 16 हैक्टेयर कृषि भूमि पर इस तरह का अवैध निर्माण हुआ। 15 दिन में यूआईटी में राशि जमा नहीं कराने पर कुर्की व बेदखली की कार्रवाई भी होगी।

 

Read More :

अपनी मां को लेने ननिहाल आया हुआ था लेकिन घर लौटी बेटे की लाश, देखते ही परिवार में मचा कोहराम


इसलिए माना अवैध निर्माण
यूआईटी के अनुसार शहर का मास्टर प्लान 2031 तक के लिए बना हुआ है। इसके बाद कुछ खातेदारों ने अपनी कृषि भूमि पर निर्माण कर लिया है। ज्यादातर खातेदारों ने इसकी स्वीकृति भी नहीं ली। यूआईटी ने भूमि रूपान्तरण नहीं कराने के कारण इस तरह के निर्माण को गलत ठहराया है।

 

Read More :

 

यूपी, एमपी, हरियाणा व पंजाब के गिरोह ने शेखावाटी मेें हजारों वाहनों को बनाया निशाना, पुलिस रिपोर्ट में हुआ खुलासा


इनका कहना है
यूआईटी ने 580 खातेदारों को नोटिस जारी कर खातेदारी अधिकार छीने है। 15 दिन में राशि जमा नहीं कराने पर कुर्की की कार्रवाई भी की जाएगी। अगले चरण में 1000 से ज्यादा खातेदारों को नोटिस जारी होंगे। मास्टर की अवहेलना पर यह कार्रवाई की है। -रामनिवास जाट, सचिव, यूआईटी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned