कहां-कहां नहीं राजनीति! पशु प्रजनन केन्द्रों में भी हावी

Where there is no politics! Animal breeding centers also dominate

कुम्हेर, नागौर व रामसर में ना पशुधन ना कर्मचारी, फिर भी सरकार इन्हें चला रही है, जबकि सर्व संसाधनयुक्त फतेहपुर में एशिया के सबसे बड़ा भेड़ प्रजनन केन्द्र बंद करने को आतुर सरकार

By: Gaurav

Published: 24 Feb 2021, 06:32 PM IST

Where there is no politics! Animal breeding centers also dominate

-फतेहपुर में भेड़ प्रजनन केन्द्र बंद करने का मामला
-जहां उठे विरोध के स्वर वहां पीछे हटी सरकार
सीकर. पशुपालन विभाग के द्वारा प्रदेश में स्थित तीन पशु प्रजनन केन्द्रों को बंद करने में दोहरी नीतियां अपनाई जा रही है। जिन केन्द्रों पर ना तो पशु हंै ना ही स्टाफ है और ना ही संसाधन है, उन केन्द्रों का तो संचालन जारी है जबकि सभी तरह की सुविधाओं वाले केन्द्रों पर ताले लगाएं जा रहे हैं। फतेहपुर (fathepur)में स्थित एशिया के सबसे बड़े भेड़ प्रजनन केन्द्र को बंद करने के आदेश जारी होने के बाद राजस्थान पत्रिका(Rajasthan patrika) ने इसकी पूरी पड़ताल की तो विभाग की खामियां सामने आई। जानकारी के अनुसार प्रदेश में राज्य सरकार की ओर से छह स्थानों पर पशु प्रजनन केन्द्र संचालित किए जा रहे हैं। इसके अलावा अविका नगर में केन्द्र सरकार की ओर से एक केन्द्र संचालित किया जा रहा है। इनमें से राज्य सरकार तीन केन्द्रों को बंद करने जा रही है जो केन्द्र अच्छे संचालित है उन केन्द्रों के ताला लटकाने की कवायद चल रही है। जबकि जिन केन्द्रों पर सुविधाएं नहीं है उन केन्द्रों को संचालित कर रखा है। क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों के दबाव के चलते उक्त केन्द्रों को बंद नहीं किया जा रहा। राज्य में अलवर, कुम्हेर, रामसर, नागौर, बाकलिया, फतेहपुर में पशु प्रजनन केन्द्र संचालित है।


विधायक मिलेंगे सीएम से
भेड़ प्रजनन केन्द्र के बंद करने के आदेश के मामले में विधायक हाकम अली खां का कहना है कि वह बुधवार को मुख्यमंत्री से मिलकर समस्या से अवगत करवायेंगे। मंगलवार को मुख्यमंत्री से नहीं मिल सके।


नागौर व कुम्हेर केन्द्र पर नहीं है एक भी पशु
प्रदेश में नागौर (nagaour)में पशु प्रजनन केन्द्र पर एक भी पशु नहीं है। इसके अलावा सिर्फ पांच लोगों को स्टाफ है। वहीं केन्द्र के पास जमीन भी कम ही है। इसके अलावा कुम्हेर (kumher)के पशु प्रजनन केन्द्र पर भी कोई भी पशु नहीं है। उसके बाद भी उक्त केन्द्र को चालू रखा जा रहा है। अजमेर के रामसर में स्थित पशु प्रजनन केन्द्र में भी महज 35 पशु है। जबकि फतेहपुर में स्थित भेड़ प्रजनन केन्द्र में 756 पशु है। भेड़ प्रजनन केन्द्र पर मारवाड़ी, चौकला व नाली नस्ल के पशु है। इसके अलावा 72 लोगों का स्टाफ है। वहीं केन्द्र के पास 550 हैक्टेयर भूमि है जो राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है। इसके बाद भी सरकार इसे बंद करने जा रही है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned