विंध्‍य क्षेत्र के हर घर में पहुंचेगा साफ पानी, पीएम मोदी-सीएम योगी ने की 5,555 करोड़ की योजनाओं की शुरुआत

सोनभद्र-मिर्जापुर के ग्रामीणों को तोहफा
- दूर से पानी लाने के झंझट से मिलेगी मुक्ति, दो साल में 'हर घर नल का जल'
- विंध्य क्षेत्र के विकास के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे- पीएम
- 70 वर्षों में विंध्य क्षेत्र के केवल 398 गांवों को मिली सुविधा- सीएम

 

By: Abhishek Gupta

Published: 22 Nov 2020, 03:50 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क.

सोनभद्र/मिर्जापुर. रविवार को पीएम मोदी (PM Modi) व सीएम योगी (CM Yogi) ने विन्‍ध्‍याचल (Vindhyanchal) क्षेत्र की जनता को 5,555 करोड़ की पेयजल योजनाओं की सौगात दी। प्रधानंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉंफ्रेंसिंग के जरिए 'हर घर नल योजना' (Har Ghar Jal Yojna) के तहत 23 परियोजनाओं का शिलान्यास किया व ग्रामीणों से रूबरू हुए। मिर्जापुर में नौ व सोनभद्र में 14 पेयजल परियोजनाओं से 42 लाख से ज्‍यादा ग्रामीणों को पाइप से शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराया जाएगा। जिससे मीलों दूर पानी लेने जाने की समस्या से ग्रामीणों को राहत मिलेगा। दो वर्ष के भीतर यह परियोजनाएं पूरी हो जाएंगी। प्रधानमंत्री मोदी ने इस दौरान कहा कि विंध्य क्षेत्र के विकास के लिए हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। सोनभद्र के धधरौल बांध के पास करमाव गांव में आयोजित इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित कई मंत्री भी शामिल हुए। उन्होंने केंद्र सरकार का आभार व्यक्त किया व पूर्व की सरकारों पर विंध्य क्षेत्र की अनदेखी करने पर निशाना भी साधा। जल सजक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने इस दौरान दावा किया कि विंध्य क्षेत्र की यह परियोजनाएं दो साल में पूरी की जाएंगी। यह विंध्य क्षेत्र की अब तक की सबसे बड़ी परियोजना है।

ये भी पढ़ें- जन्मदिन के दिन नंबर एक पर ट्रेंड हुए मुलायम सिंह यादव, पीएम मोदी ने कहा यह

आजादी के बाद से उपेक्षित रहा विंध्य क्षेत्र-
प्रधानमंत्री मोदी ने वर्चुअल शामिल होकर विपक्ष पर अप्रत्यक्ष रूप से निशाना साधा और कहा कि आजादी के उपरांत दशकों तक विंध्य व बुंदेलखंड क्षेत्र सबसे ज्यादा उपेक्षित रहा। आसपास सोन, गंगा, बेलन, कर्मनाशा और शिप्रा जैसी नदियां व तमाम संसाधन होने के बावजूद यहां के लोग प्यासे रहें और इन क्षेत्रों को सूखा प्रभावित क्षेत्र के रूप से लोग जानने लगे। लोग पलायन करने को मजबूर हो गए। अब ऐसा नहीं होगा। पीएम ने केंद्र की 'हर घर जल' योजना की तारीफ की व कहा कि इसे एक साल हो गया है और 2.60 करोड़ परिवार को घरों में नल से पानी मिलने के सुविधा मिलने लगी है। इस योजना को आगे और गति मिलेगी।

आदिवासियों को हमारी सरकार ने दी प्राथमिकता-
प्रधानंत्री ने इस क्षेत्र की प्रसिद्ध मां विंध्यवासिनी की कृपा बताते हुए कहा माता की कृपा ही है कि इस क्षेत्र में इस परियोजना का शुभारम्भ हो रहा है। पीएम मोदी ने अपना दल के संस्थापक सोने लाल पटेल को भी याद किया और कहा कि यदि किसी आदिवासी क्षेत्र में किसी आदिवासी परंपरा में घर बनते हैं तो प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत बनने वाले घर भी उसी तरह के बने। साथ ही यह दावा किया कि आदिवासियों को जितनी हमारी सरकार प्राथमिकता दे रही है, उतनी प्राथमिकता किसी सरकार ने नहीं दी।

ये भी पढ़ें- Coronavirus in UP: लगातार तीसरे दिन बढ़े कोरोना के मामले, सीएम योगी ने इन मंत्रियों के दिए बड़े निर्देश

मास्क बांटने वाली फूलपत्ती देवी से की बात-
प्रधान मंत्री ने वर्चुअल तरीके से सोनभद्र के फूलपत्ती देवी से वर्चुअल बातचीत भी की व क‍हा कि अपने फैसले लेने पर गांव के हर व्‍यक्ति का आत्मविश्वास बढ़ता है। फूलपत्ती देवी ने कोरोना काल में मास्क बनाकर लोंगो में बांटा था। वह बेहद गरीब हैं और लगभग 1 किमी दूर से पीने का पानी लेने जाती है। नेटवर्क में दिक्कत के कारण प्रधानमंत्री अन्य लोगों से बात नहीं कर पाए।

70 वर्षों में विंध्य क्षेत्र के केवल 398 गांवों को मिली सुविधा- सीएम
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कार्यक्रम में ग्रामिणों को संबोधित करते हुए विपक्ष पर निशाना साधा और कहा कि 70 वर्षों में विंध्य क्षेत्र के केवल 398 गांवों में पेयजल आपूर्ति परियोजनाओं को विनियमित किया जा सका। आज हम इस क्षेत्र के 3000 से ज्यादा गांवों में ऐसी परियोजनाओं को आगे बढ़ाने जा रहे हैं। सीएम योगी ने सभा में सरकार की प्राथमिकता भी गिनायी।

Show More
Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned