कुश्ती: एशियाई चैम्पियनशिप में विनेश फोगाट और अंशु मलिक ने पहली बार जीता गोल्ड मेडल

इस प्रतियोगिता में विनेश फोगाट ने कमाल का प्रदर्शन किया। उन्होंने 53 किग्रा वर्ग में बिना अंक गंवाए स्वर्ण पदक हासिल किया। वहीं रियो ओलंपिक में कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक को एशियाई चैम्पियनशिप में रजत पदक के साथ संतोष करना पड़ा।

By: Mahendra Yadav

Published: 16 Apr 2021, 09:41 PM IST

ओलंपिक टिकट हासिल कर चुकी महिला पहलवान विनेश फोगाट और अंशु मलिक ने एशियाई चैम्पियनशिप के फाइनल में शुक्रवार को दमदार प्रदर्शन किया और अपने—अपने मुकाबलों में जीतकर गोल्ड मेडल हासिल किए। इस प्रतियोगिता में विनेश फोगाट ने कमाल का प्रदर्शन किया। उन्होंने 53 किग्रा वर्ग में बिना अंक गंवाए स्वर्ण पदक हासिल किया। वहीं रियो ओलंपिक में कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक को एशियाई चैम्पियनशिप में रजत पदक के साथ संतोष करना पड़ा। भारत ने इस टूर्नामेंट में 4 स्वर्ण, 1 रजत और कांस्य पदक हासिल किए।

विनेश फोगाट का रहा दबदबा
इस चैंपपियनशिप में विनेश फोगाट का दबदबा रहा। बता दें कि विनेश को सेमीफाइनल में वॉकओवर मिला था। वहीं फाइनल में उनका मुकाबला ताइवान की मेंग हसउआन हसिह से हुआ। इस मुकाबले में विनेश फोगाट ने 6-0 की बढ़त हासिल कर हसउआन को चित कर दिया और मुकाबला जीत लिया। बता दें कि इससे पहले इस चैम्पियनशिप में उन्होंने अब तक सात पदक हासिल किए हैं।

यह भी पढ़ें— 3 माह के बेटे को लेकर काम पर लौटीं बबीता फोगाट, तस्वीर शेयर कर लिखा- जिम्मेदारियां और मजबूत बनाती हैं

anshu_malik.png

अंशु के आक्रमण का कोई जवाब नहीं
वहीं पिछले दिनों ओलंपिक कोटा हासिल करने वाली युवा सनसनी अंशु का 57 किग्रा वर्ग में मंगोलिया की खिलाड़ी से मुकाबला हुआ। फाइनल में अंशु ने मंगोलिया की बत्सेत्सेग अल्टांसेटसेग को 3-0 से हराया। इस मुकाबले में अंशु आक्रामक तरीके से खेलीं। मंगोलियाई खिलाड़ी के पास अंशु के आक्रमण का कोई जवाब नहीं था। बता दें कि इससे पहले अंशु उज्बेकिस्तान की सेवारा इश्मुरतोवा और किर्गिस्तान की नाजिरा मार्सबेक कयजी को तकनीकी श्रेष्ठता के आधार पर पटखनी देकर सेमीफाइनल में पहुंची।

यह भी पढ़ें— गीता-बबीता फोगाट की बहन ने की आत्महत्या, कुश्ती में मिली थी हार

साक्षी ने आजमाया 65 किग्रा वर्ग में हाथ
वहीं साक्षी मलिक भी 65 किग्रा वर्ग के फाइनल में पहुंच गईं। हालांकि साक्षी 62 किग्रा वर्ग में जगह बनाने में नाकाम रही। इसके बाद उन्होंने 65 किग्रा वर्ग में हाथ आजमाया। पहले दो मुकाबले में जीत हासिल करने के बाद साक्षी कोरिया की हैनबिट ली के खिलाफ 3-0 से आगे चल रही थीं। हालांकि घुटने में चोट लगने के कारण कोरियाई खिलाड़ी प्रतियोगिता से बाहर हो गईं। वहीं फाइनल में साक्षी का सामना मंगोलिया की बोलोटुंगालाग जोरिग्ट से होगा। वहीं दिव्या काकरान भी तीसरे दौर में पहुंच गईं।

Mahendra Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned