ईंट-भ_ों पर गूंजेगा 'अ-अनार, आ-आम...

प्रवीण राजपाल, श्रीकरणपुर।
शिक्षा से दूर ईंट-भ_ों पर काम करने वाले श्रमिकों के बच्चों को जल्द ही किताबें थमाकर ज्ञान की अलख जगाई जाएगी।

By: sadhu singh

Published: 13 Nov 2019, 01:22 AM IST

प्रवीण राजपाल, श्रीकरणपुर।
शिक्षा से दूर ईंट-भ_ों पर काम करने वाले श्रमिकों के बच्चों को जल्द ही किताबें थमाकर ज्ञान की अलख जगाई जाएगी। इसके लिए उन्हें आसपास गांव के किसी स्कूल में जाने की जरूरत भी नहीं होगी। शिक्षा से वंचित बच्चों को चिन्हित कर इस संबंध में सभी तैयारियां लगभग पूरी कर ली गई हैं। ऐसी व्यवस्था करने वाला श्रीकरणपुर जिले का पहला ब्लॉक होगा।
सर्वे में सामने आया सच...
सीबीइओ सुरेन्द्र अरोड़ा ने बताया कि राज्य सरकार के निर्देश पर ईंट भ_ों पर कार्यरत श्रमिकों के बच्चों को शिक्षा से जोडऩे की योजना बनाई गई। करीब 15 दिन पहले स्काउटर राजकुमार नागपाल ने गांव 52 एफ के निकट स्थित रामदेव ईंट उद्योग व जय अम्बे ईंट उद्योग पर सर्वे किया गया। इसमें दोनों ईंट भ_ों पर कार्यरत श्रमिकों के 6 से 14 वर्ष की आयु के मध्य कुल 32 बच्चे शिक्षा से वंचित मिले। इनकी शिक्षा के लिए प्रस्ताव बनाकर जिला स्तरीय शिक्षा अधिकारियों को भेजा गया।
छह माह तक चलेगा आवासीय शिविर...
सीबीइओ अरोड़ा ने बताया कि अतिरिक्त जिला परियोजना समन्वयक समसा से स्वीकृति मिलने पर आगामी सप्ताह की शुरूआत में ही वहां छह माह का आवासीय शिविर शुरू किया जाएगा। शिविर के लिए रामदेव ईंट उद्योग के संचालक हैप्पी रस्सेवट ने तीन कक्ष देने की घोषणा की है। सीबीइओ ने बताया कि मानदेय पर शिक्षक की नियुक्ति कर बच्चों को पढ़ाया जाएगा। इस दौरान बच्चों को किताबों के साथ सुबह व शाम का खाना भी नि:शुल्क दिया जाएगा। छह माह का शिक्षण पूर्ण होने पर आयु व मूल्याकंन के मुताबिक उन्हें कक्षा एक से पांच तक अध्ययन का प्रमाण-पत्र भी दिया जाएगा।
बच्चों को मिलेगी पहचान
सीबीइओ अरोड़ा ने बताया कि अन्य प्रदेशों से आकर ईंट भ_ों पर काम करने वाले श्रमिकों के बच्चों का आधार कार्ड या पहचान संबंधी अन्य दस्तावेज नहीं होने की वजह से इन्हें स्कूलों में प्रवेश लेने में दिक्कत होती है। शिविर के माध्यम से इनका नामांकन होने पर आधार कार्ड बनाने में सहूलियत होगी।
---------
'ईंट भट्टों या दूर दराज ग्रामीण क्षेत्र में किसी कारणवश शिक्षा से वंचित बच्चों को स्कूल व किताबों से जोडऩे के लिए कवायद शुरू की गई है। राज्य सरकार ने इस संबंध में निर्देश दिए। कस्बे से करीब दस किमी दूर दो ईंट-भ_ों पर सर्वे पर प्रस्ताव भेजा गया था। उच्चधिकारियों से शिक्षण शिविर शुरू करने सहित अन्य स्वीकृति मिल चुकी है। चार-पांच दिन में कार्य शुरू कर दिया जाएगा।Ó
सुरेन्द्र अरोड़ा, सीबीइओ श्रीकरणपुर।

sadhu singh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned