पूर्व उपसरपंच को प्यारे हाथी ने कुचलकर मार डाला, बेटी और समधी ने भागकर बचाई अपनी जान

Elephant killed: समधी के घर से बेटी को लेकर घर लौट रहा था पूर्व उपसरपंच, रास्ते में प्यारे हाथी (Pyare elephant) से हो गया था सामना, सुबह मिली लाश

By: rampravesh vishwakarma

Published: 10 Jan 2021, 10:51 PM IST

प्रतापपुर. प्रतापपुर वन परिक्षेत्र के ग्राम पार्वतीपुर में शनिवार की शाम बेटी व समधी के साथ अपने घर आ रहे पूर्व उपसरपंच को प्यारे हाथी ने कुचलकर मार (Elephant killed) डाला। जबकि बेटी व समधी ने किसी तरह भागकर अपनी-अपनी जान बचाई।

सूचना पर वन अमला पहुंचा लेकिन अंधेरा होने व प्यारे हाथी (Pyare elephant) के जंगल में ही मौजूद होने के कारण शव को बरामद नहीं किया जा सका। रविवार की सुबह जंगल से शव बरामद किया गया।


सूरजपुर जिले के प्रतापपुर वन परिक्षेत्र में हाथियों का आतंक (Elephants panic) है। यहां आए दिन हाथी फसलों व घरों को नुकसान पहुंचाने के अलावा जनहाहिन भी कर रहे हैं।

इसी कड़ी में प्रतापपुर विकासखंड अंतर्गत ग्राम सेमराखुर्द निवासी पूर्व उपसरपंचरामधारी पिता बसधारी दो दिन पहले अपने समधी के घर ग्राम पलढ़ा गया था, कल शाम को बेटी व समधी के साथ वह घर लौट रहा था। वे ग्राम पार्वतीपुर के सिटीपखना के पास पहुंचे थे कि इनका सामना प्यारे हाथी से हो गया।

इसी बीच रामधारी हाथी की चपेट में आ गया और हाथी ने उसे सूंड से उठाकर जमीन पर पटक दिया, फिर कुचलकर मार डाला। मृतक की बेटी और समधी किसी तरह भाग कर अपनी जान बचाने में कामयाब रहे। उन्होंने इसकी सूचना पास के गांव तथा वन विभाग को दी।


सुबह बरामद हुआ शव
जानकारी मिलने के बाद सभी शव को ढूंढने जंगल गए लेकिन घनी झाडिय़ों और अंधेरा (Dark) होने के कारण ढूंढ नहीं पाए। चूंकि प्यारे हाथी भी जंगल मे मौजूद था, ऐसे में उन्होंने रात में शव (Dead body) को जंगल मे ही छोड़ दिया। रविवार की सुबह मृत उपसरपंच का शव जंगल से बरामद किया गया।


25 हजार की मिली आर्थिक सहायता
वन विभाग के अधिकारियों की उपस्थिति में क्षेत्रीय जनपद सदस्य शिवपाल कुशवाहा ने परिजनों को तत्काल सहायता राशि के रूप में 25 हजार रुपये दिए। पूर्व उपसरपंच की मौत से परिजनों में मातम पसरा हुआ है।

Show More
rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned