पति की मौत के सदमे में छोड़ दिया था घर, 15 साल बाद त्रिवेंद्रम में मिली तो मां से लिपटकर रोया बेटा

महिला को सूरजपुर पुलिस ने केरल से खोजा, भैयाथान के ग्राम घोंसा की हिरोंदिया बाई का त्रिवेन्द्रम मेंटल हॉस्पिटल में चल रहा था इलाज

By: rampravesh vishwakarma

Published: 07 Jun 2018, 08:42 PM IST

सूरजपुर. पति की मौत के बाद सदमे में आकर घर से निकली बेसुध महिला 15 वर्ष बाद केरल राज्य के त्रिवेन्द्रम में मिली। इसकी जानकारी जब पुलिस को लगी तो पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए पहले तो पहचान हेतु टीम को त्रिवेन्द्रम रवाना किया और फिर उस महिला की सकुशल वापसी करवाई। बेटे को लेकर जब पुलिस वहां पहुंची तो मां को देखकर बेटा लिपट गया। इसके बाद दोनों रोने लगे।


गौरतलब है कि गत् 25 मई को भैयाथान पुलिस को मेन्टल हॉस्पिटल त्रिवेन्द्रम केरल से सूचना दी गई कि ग्राम घोंसा की एक महिला जो अपना नाम संध्या पाण्डेय बताती है, उसका मेंटल हास्पिटल में उपचार चल रहा है। उक्त सूचना पर भैयाथान थाना प्रभारी ए. टोप्पो द्वारा ग्राम घोंसा में स्टाफ भेजकर पतासाजी कराने पर जानकारी प्राप्त हुई कि संध्या पाण्डेय नाम की कोई महिला गांव में नहीं है।

उक्त नाम की महिला के गांव में न होने पर मेन्टल हास्पिटल त्रिवेन्द्रम से उक्त महिला की फोटो मंगाई गई और गांव में जाकर फोटो दिखाकर पहचान कराई गई। इससे मालूम हुआ कि वह महिला हिरोंदिया सिंह पति स्व. भुवनेश्वर सिंह ग्राम घोंसा थाना भैयाथान के निवासी है जो पिछले 15 वर्ष से गायब है। मेन्टल हॉस्पिटल से सूचना प्राप्त होने पर थाना प्रभारी भैयाथान ए टोप्पो ने इसकी सूचना तत्काल पुलिस अधीक्षक जीएस जायसवाल एवं एएसपी मेघा टेंभुरकर को दी।

 

Mother-son with police

एसपी के निर्देशन में टीम हुई रवाना
पुलिस अधीक्षक जीएस जायसवाल के निर्देशन, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मेघा टेंभुरकर एवं एसडीओपी सूरजपुर मनोज धु्रव के मार्गदर्शन में थाना प्रभारी ए टोप्पो ने थाने में पदस्थ आरक्षक दीपक यादव एवं हितेश्वर राजवाड़े को आवश्यक दस्तावेज सहित उक्त महिला के पुत्र आकाश एवं पड़ोसी त्रिलोक सिंह के साथ मेन्टल हॉस्पिटल त्रिवेन्द्रम केरल रवाना किया।

पुलिस कर्मचारी मेन्टल हास्पिटल त्रिवेन्द्रम केरल पहुंचकर 15 वर्ष से गायब महिला से मिले और उसके पुत्र एवं पड़ोसी द्वारा पहचान की गई कि वह महिला हिरोंदिया बाई है। पूर्ण संतुष्टि के उपरान्त हिरोंदिया बाई के पुत्र आकाश सिंह द्वारा त्रिवेन्द्रम के न्यायालय में अपनी मां को सुपूर्द करने हेतु आवेदन दिया गया।

इस पर वहां के न्यायालय द्वारा मेंटल हॉस्पिटल ओलनपारा पेरूरकदा, त्रिवेन्द्रम केरल से आवश्यक जानकारी लेकर हिरोंदिया बाई को उसके पुत्र आकाश सिंह को सुपुर्द में देने आदेश जारी किया। भैयाथान पुलिस व उसके परिजन आदेश की प्रति लेकर मेन्टल हॉस्पिटल में देकर 15 वर्ष से गायब महिला ग्राम घोंसा भैयाथान निवासी हिरोंदिया बाई को लेकर भैयाथान पहुंची।


अद्र्धविक्षिप्त हालत में मिली थी महिला
त्रिवेन्द्रम मेंटल हास्पिटल के चिकित्सकों ने बताया कि विगत् 3 वर्ष पूर्व त्रिवेन्द्रम पुलिस पेट्रोलिंग पार्टी द्वारा अद्र्वविक्षिप्त हालत में महिला को लाया गया था, न्यायालयीन आदेश पर इसका उपचार किया जा रहा था। इस दौरान जानकारी मिली थी कि त्रिवेन्द्रम पुलिस को यह महिला रेलवे स्टेशन में विक्षिप्त हालत में मिली थी।

वर्तमान में महिला हिरोंदिया बाई की दिमागी हालत में काफी सुधार होने के बाद उसने अपने गांव और क्षेत्र की जानकारी चिकित्सकों को दी थी। इसी के आधार पर चिकित्सकों ने भैयाथान पुलिस को इस महिला के संबंध में बताया था और पुलिस ने सार्थक पहलकर 15 वर्ष से लापता इस महिला की सकुशल घर वापसी की।


पति की मौत के बाद सदमे में थी महिला
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मेघा टेंभुरकर ने बताया कि हिरोंदिया बाई के पति की मृत्यु के बाद करीब 15 वर्ष पूर्व हिरोंदिया बाई का मानसिक संतुलन बिगड़ जाने के कारण गांव से अन्यत्र कहीं चली गई थी। इसकी सूचना परिजन द्वारा पुलिस को नहीं दी गई थी, 15 वर्ष से गायब महिला की सूचना मिलने पर पुलिस ने सक्रियता दिखाई और अपनी सूझ-बूझ से आवश्यक कार्रवाई कर गायब महिला हिरोंदिया बाई को त्रिवेन्द्रम केरल से सकुशल लेकर भैयाथान पहुंची। पुलिस के इस पहल की परिजन सहित गांव वालों ने काफी सराहना की है।


पुत्र ने देखते ही पहचान लिया
15 वर्ष पूर्व अपनी मां से बिछड़े बड़े पुत्र आकाश सिंह ने त्रिवेन्द्रम पहुंचकर जब मां हिरोंदिया बाई को देखा तो आकाश ने अपनी मां को तुरंत पहचान लिया। पहले तो उसने अपनी मां को गले से लगाया और फिर खुशी से दोनों की आंखों से आंसू निकल पड़े। साथ में गए आरक्षक दीपक यादव एवं हितेश्वर राजवाड़े भी यह सुखद पल को देख खुद को नहीं रोक पाये और उनकी आंखें भी भर आईं।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned