‘हौसला’ टीम से कोरोना मरीजों के परिजनों का मनोबल मजबूत किया

- रामनवमी पर कोविड-19 अस्पताल में रामधुन लगाई

By: Sanjeev Kumar Singh

Published: 22 Apr 2021, 10:20 PM IST

सूरत.

शहर में कोरोना मरीजों की संख्या बढऩे के साथ ही मरीज और परिजनों का आत्मविश्वास डगमगाने लगा है। कोविड-19 अस्पताल में भर्ती कोरोना मरीजों तथा बाहर परिजनों का मनोबल मजबूत करने के लिए मेडिकल छात्रों की हौसला टीम बनाई गई है। यह टीम न्यू सिविल के तीनों कोविड बिल्डिंग में सुबह दस से दो बजे के बीच मरीजों का संगीत और हास्य थैरेपी से उत्साह बढ़ाएंगे। मनोचिकित्सा विभाग की ओर से डॉक्टर, नर्सिंग और पैरेमेडिकल स्टाफ का उत्साह बढ़ाने के लिए भी कोरोना वरियर्स का स्टिकर लगाने समेत अन्य कार्यक्रम किए जा रहे हैं।


न्यू सिविल अस्पताल अधीक्षक डॉ. रागिनी वर्मा ने राजस्थान पत्रिका को बताया कि वार्ड में मरीजों के बीच अच्छा माहौल बनाने के लिए मेडिकल छात्र जिन्हें संगीत में रुचि है, उनकी एक टीम बनाई गई है। इसका नाम हौसला दिया गया है। रामनवमी के दिन टीम ने कोविड-19 अस्पताल के बाहर परिजनों से भी धैर्य रखने और डॉक्टर-नर्स पर विश्वास कर मरीज के जल्दी स्वस्थ होने की प्रार्थना की। चिकित्सकों ने बताया कि कोरोना गाइडलाइंस का पालन करने के साथ सकारात्मक सोच के साथ आगे बढऩे की जरुरत है। इस दौरान गर्वमेंड मेडिकल कॉलेज डीन डॉ. ऋतंभरा मेहता भी मौजूद रहीं।

‘हौसला’ टीम से कोरोना मरीजों के परिजनों का मनोबल मजबूत किया

मैं भी कोरोना वरियर्स टैग से स्वागत

मनोचिकित्सक विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. कमलेश दवे ने बुधवार को कोविड-19 अस्पताल के डॉक्टर, नर्सिंग और पैरामेडिकल स्टाफ को मैं भी कोरोना वरियर्स का टैग से स्वागत किया। अधीक्षक डॉ. रागिनी ने बताया कि सुबह आठ बजे ड्यूटी बदलती है। उसी समय मनोचिकित्सा विभाग की टीम मौजूद रहती है और ड्यूटी पर आने वाले प्रत्येक कर्मचारी को -मैं भी कोरोना वरियर्स- का टैग लगाकर प्रवेश देती है। इससे कर्मचारियों का उत्साह बढ़ता है। प्रत्येक स्टाफ में कोरोना मरीजों के प्रति इलाज और सेवा की भावना जागृत करने के लिए यह प्रयास किया जा रहा है।

Sanjeev Kumar Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned