हाथाथली विद्यालय हुआ जर्जर,108 बच्चों की जान खतरे में

हाथाथली विद्यालय हुआ जर्जर,108 बच्चों की जान खतरे में
निवाई. राजकीय उत्कर्ष उच्च प्राथमिक विद्यालय हाथाथली के जर्जर कक्षा कक्ष।

Mohan Lal Kumawat | Updated: 18 Aug 2019, 09:58:52 AM (IST) Tonk, Tonk, Rajasthan, India

हाथाथली के जर्जर हुए राजकीय उत्कर्ष उच्च प्राथमिक विद्यालय के प्रति अधिकारी व जनप्रतिनिधि अवगत होने के बाद भी कार्रवाई के प्रति अनजान बने हुए है।

निवाई. उपखण्ड क्षेत्र के गांव गणेशपुरा उर्फ हाथाथली के जर्जर हुए राजकीय उत्कर्ष उच्च प्राथमिक विद्यालय के प्रति अधिकारी व जनप्रतिनिधि अवगत होने के बाद भी कार्रवाई के प्रति अनजान बने हुए है।

read more : बारिश से ब्रिटिशकालीन स्कूल के बरामदें सहित आधा दर्जन मकान ढहे

प्रधानाध्यापक गोपाल लाल मीना ने विद्यालय की जर्जर स्थित Shabby school से सरपंच, विकास अधिकारी, उपखण्ड अधिकारी, विधायक के अलावा सार्वजनिक निर्माण विभाग Public works department के कनिष्ठ व सहायक अभियंता को भी बताया, लेकिन अभी तक किसी की ओर से विद्यालय की मरम्मत School repair या अन्य जगह स्थानांतरित Movedकरने के प्रति कोई कार्रवाई अमल में नहीं लाई गई है।

 

प्रधानाध्यापक ने बताया विद्यालय के चारों तरफ गांव का गंदा पानी आकर भरता Dirty water comes and fills है, जिससे विद्यालय के कक्ष पूर्ण जर्जर Room full shabby हो चुके है और जर्जर अवस्था में कभी भी कोई दुर्घटना घट सकती Crash may happen हैं।

 

read more : आज रात या कल सुबह तक छलक सकता है बीसलपुर, बांध के खोले जा सकते हैं गेट!
निरीक्षण में आने वाले शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने इस ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं। विद्यालय में इन्र्वटर,कम्प्यूटर Inverter, Computer व पंखे भी बारिश के चलते खराब हो गए हैं। शाला प्रबंधन विकास समिति के बसराम ने बताया कि विद्यालय के कमरों से पानी टपक रहा Water dripping from the rooms है, जिससे फर्शर्, बिछी दरिया और फर्नीचर सहित आवश्यक दस्तावेज खराब Bad Documents Required हो रहे।

 

उन्होनें बताया कि विद्यालय में 108 बच्चों का नामांकन हैं, लेकिन कक्षा-कक्ष केवल एक ही सुरक्षित बचा है, जिससे बच्चों को पढ़ाई में बाधा उत्पन्न हो रही हैं। नकारा कक्षा कक्षों का शिक्षा विभाग के सहायक और कनिष्ठ अभियंता कई बार अवलोकन कर चुके हैं।

read more : स्कूल भवन क्षतिग्रस्त होने से अभिभावकों में डर का माहोल, बच्चों को विद्यालय भेजना भी किया बंद

 

इस बारे में विधायक प्रशांत बैरवा सरपंच, प्रधान व उच्च अधिकारियों को भी अवगत करा दिया हैं लेकिन अभी तक किसी ने भी इस ओर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। क्षेत्र में लगातार बारिश हो रही हैं।प्रधानाध्यापक ने राज्य सरकार को भेजे पत्र में किसी भी प्रकार की घटना होने पर स्कूल प्रशासन नहीं उपखंड प्रशासन जिम्मेदार होना बताया है।

 

 

 

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned