Manikarnika Ghat

मणिकर्णिका घाट

Manikarnika Ghat

विवरण :

हिंदू मान्यता के अनुसार मोक्ष प्राप्ति का सबसे बड़ा तीर्थ स्थान बनारस को माना गया है। यहां दूर- दूर से लोग मोक्ष की प्राप्ति के लिए आते हैं। मोक्ष प्राप्ति के लिए बनारस का मर्णकर्णिका घाट प्रसिद्ध है। मर्णिकर्णिका घाट में मोक्ष प्राप्ति को लेकर कहानी है।


मान्यता है कि माता पार्वती जी का कर्ण फूल यहां एक कुंड में गिर गया था। जिसे ढूंढने का काम भगवान शंकर जी द्वारा किया गया। जिस कारण इस स्थान का नाम मणिकर्णिका पड़ गया। एक दूसरी मान्यता के अनुसार भगवान शंकर जी द्वारा माता पार्वती जी के पार्थीव शरीर का अग्नि संस्कार किया गया। जिस कारण इसे महाश्मसान भी कहते हैं। आज भी अहर्निश यहां दाह संस्कार होते हैं। नजदीक में काशी की आद्या शक्ति पीठ विशालाक्षी जी का मंदिर विराजमान है।


मणिकर्णिका घाट तक कैसे पहुंचे
वाराणसी कैंट स्टेशन से दशाश्वमेघ पहुंचने के वैसे तो कई रास्ते हैं लेकिन आप आसानी से 31 मि (7.0 किमी) बेनिया बाग मार्ग/लहुराबीर मार्ग से होकर पहुंच सकते हैं।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK