Memorial Church

मेमोरियल चर्च

Memorial Church

विवरण :

कानपुर मेमोरियल चर्च का निर्माण अंग्रेज़ सरकार ने सन 1875 ई. में कानपुर की घेराबंदी के दौरान मारे गए अंग्रेजों की याद के स्वरुप किया था और यह 1875 में ब्रिटिशों के सम्मान में बनाया गया था जिन्होंने कावनपुर (1857) की घेराबंदी के दौरान अपना जीवन गंवा दिया था। उस समय इस शहर को कावनपुर कहा जाता था। यह चर्च पहले ऑल सोल्स कैथेड्रल के नाम से जाना जाता था, अलबर्ट लेन पर कानपुर क्लब के पास कानपुर छावनी के केंद्र में स्थित है।

लाल ईंटों से लौम्बोर्ड संरचना में बने इस चर्च का नियोजन और डिज़ाइन पश्चिम बंगाल रेलवे के एक ब्रिटिश वास्तुकार वाल्टर ग्रानविले द्वारा किया गया। इसके एक किनारे पर कब्रिस्तान है जिसमें ब्रिटिश लोगों और सिपाहियों की कब्रें हैं। इस चर्च के पूर्वी भाग में एक स्मारक गार्डन (उद्यान) भी है जहां दो दरवाजों से पहुंचा जा सकता है।

इसमें एक नक्काशी की हुई स्क्रीन है और इसके केंद्र में एक देवदूत की मूर्ति है जिसकी भुजाएं एक दुसरे के ऊपर से गई हैं तथा जो एक तोरण पकड़े हुए है जो विश्व शांति का प्रतीक है। इसका निर्माण मूर्तिकार बारों कार्लो मारोचेट्टी ने किया था। चर्च कानपुर छावनी के कावनपुर क्लब के पास अल्बर्ट लेन पर स्थित है। यह कैन्टोनमेंट के केंद्र में स्थित है।

 

निर्माण : सन 1875 ई.

सन 1857 ई. में : घेराबंदी हुई

निर्माता : एक ब्रिटिश वास्तुकार वाल्टर ग्रानविले

देवदूत की मूर्ति का निर्माण : मूर्तिकार बारों कार्लो मारोचेट्टी ने किया

स्थान : Albert Lane, Kanpur Cantonment, Kanpur, Uttar Prades

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK