डिस्ट्रिक्ट सेंटर के लिए मांजी की सराय के पास से होगी कनेक्टिविटी

यूआईटी की टीम ने देखा मौका तो खातेदार पहुंचे यूआईटी

By: Mukesh Hingar

Updated: 15 Sep 2021, 10:26 AM IST

उदयपुर. डिस्ट्रिक्ट सेंटर राणा प्रतापनगर व्यावसायिक योजना का सुप्रीम कोर्ट से केस जीतने के बाद योजना को मूर्त रूप देने के लिए यूआईटी ने कवायद शुरू कर दी है। सोमवार को यूआईटी की टीम ने जमीन का मौका देखा। दूसरी तरफ कुछ खातेदार यूआईटी पहुंचे और उन्होंने नीति के अनुरूप विकसित भूखंड देने की मांग की।
राणा प्रताप नगर रेलवे स्टेशन के सामने स्थित मांजी की सराय के पीछे की जमीन का मौका देखने यूआईटी सचिव अरुण हासिजा के साथ पूरी टीम पहुंची। वहां अधिकतर जमीन तो कृषि भूमि के रूप में ही मौके पर थी लेकिन रोड सीमा से सटी कुछ जमीन पर छोटा निर्माण था। टीम ने अवाप्ति वाले आराजी नंबर की जमीन को देखते हुए अग्रिम कार्रवाई की रणनीति बनाई। अब इसमें कब्जा लेने की प्रक्रिया की जाएगी, इसके लिए पूरी योजना बनाई जाएगी।

मौके की स्थिति से मांजी की सराय के पास आगे सुंदरवास जाने वाले रास्ते की गली से अंदर प्लानिंग में जाने की कनेक्टिविटी बेहतर लगी। वैसे कब्जा लेने के बाद प्लानिंग शाखा की ओर से प्लानिंग बनाई जाएगी। टीम में सचिव के साथ एलएओ वारसिंह, तहसीलदार भागीदार सिंह, पटवारी बाबूलाल लाल तेली सहित आदि मौजूद थे।


खातेदारों की मांग पर सरकार फैसला करेगी

इधर, यूआईटी में प्रभावित खातेदारों ने सचिव हासिजा से मुलाकात की। उनका तर्क था कि जमीन के बदले विकसित जमीन दी जाए। कुछ खातेदार ऐसे थे, जिनके मामले हाईकोर्ट में विचाराधीन है। सचिव ने उनकी मांगों को लेकर आश्वस्त किया कि उनकी मांग पर निर्णय राज्य सरकार करेगी। उल्लेखनीय है कि राणा प्रताप नगर रेलवे स्टेशन के सामने की तरफ डिस्ट्रिक्ट सेंटर राणा प्रतापनगर व्यावसायिक योजना का करीब 19 साल पुरानी योजना का केस यूआईटी सुप्रीम कोर्ट से जीती है।

Mukesh Hingar
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned