scriptYouths should be given more responsibilities in coming Lok sabha elections, says Sachin Pilot | उदयपुर दौरे पर पहुंचे सचिन पायलट ने युवाओं को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें क्या बोले | Patrika News

उदयपुर दौरे पर पहुंचे सचिन पायलट ने युवाओं को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें क्या बोले

locationउदयपुरPublished: Jan 20, 2024 10:05:55 pm

Sachin Pilot In Udaipur : उदयपुर। राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने राज्य की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि यहां भी डबल इंजन की सरकार बनने के बाद भी अब तक कोई काम नहीं किया गया है। पायलट शनिवार को यहां सर्किट हाउस में पत्रकार वार्ता में बोल रहे थे।

Sachin Pilot In Udaipur

Sachin Pilot In Udaipur : उदयपुर। राजस्थान के पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने राज्य की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि यहां भी डबल इंजन की सरकार बनने के बाद भी अब तक कोई काम नहीं किया गया है। पायलट शनिवार को यहां सर्किट हाउस में पत्रकार वार्ता में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि शुक्रवार को अभिभाषण में कांग्रेस नेतृत्व को कटघरे में खड़ा करने की कोशिश की गई लेकिन अब राजस्थान में भी डबल इंजन की सरकार बन चुकी है। जब केंद्र में भाजपा की सरकार बनी थी, तब उन्होंने कई वादे किए थे, लेकिन कुछ भी नहीं हुआ और अब यहां भी कोई काम नहीं किया गया है।

उन्होंने कहा कि कोशिश होनी चाहिए कि हर योजना को धरातल पर लाया जाए लेकिन सरकार बने हुए अभी ज्यादा समय भी नहीं हुआ कि योजनाओं के नाम बदल दिए गए। नौजवान को नौकरी से निकाल दिया गया है। उन्होंने कहा, 'मैं कल ही जयपुर में धरने पर जाकर नौजवानों से मिला हूं।'

पायलट ने महिला पहलवानों के धरना प्रदर्शन का जिक्र करते हुए कहा कि भाजपा महिलाओ की बात करती है लेकिन महिला पहलवानों को धरना प्रदर्शन करना पड़ा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की लोकसभा चुनाव को लेकर तैयारी पूरी मजबूती से चल रही है और कल भी बैठक थी। इण्डिया गठबंधन हुआ है, हो सकता है कांग्रेस वर्ष 2019 के चुनाव जितनी सीटों पर चुनाव नहीं लड़े लेकिन हम सब एकजुट होकर चुनाव लड़ेंगे और अनुभव की एक अलग पहचान होती है।

मजबूती से करेंगे काम
उन्होंने कहा कि युवाओं को मौका देना चाहिए और कांग्रेस ने युवाओ को मौका दिया है। नए लोगों को मौका देना चाहिए। पायलट ने दावा करते हुए कहा कि राजस्थान में पार्टी बहुत मजबूती से काम करेगी और पिछले दो लोकसभा चुनावों में कांग्रेस खाता नहीं खोल पाई, लेकिन इस बार चुनाव परिणाम कांग्रेस के पक्ष में आएंगे। पायलट ने कहा कि राम मन्दिर को मुद्दा बनाया जा रहा है जबकि कोई वैष्णो देवी कब जाएगा, तिरुपति कब जाओगे अपनी अपनी पसंद होती है। कोई किसी से पूछकर नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने बूथ पर काम किया है और राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे और पार्टी नेता राहूल गांधी ने कहा है कि हमें मिलकर चुनाव लडऩा चाहिए और हम सब मिलकर चुनाव लड़ेगे।

'इंडिया' गठबंधन से डरी हुई है भाजपा
उन्होंने कहा कि राहुल गांधी भारत जोड़ो यात्रा में करीब साढ़े चार हजार किलोमीटर पैदल चले हैं। कई लोगों ने कहा था कि यह पूरी नहीं कर पाएंगे लेकिन यात्रा पूरी की गई और इस दौरान लोगों की आवाज सुनी गई। उन्होंने कहा, 'केन्द्र सरकार में सुनने की कमी है अब राहुल गांधी ने भारत न्याय यात्रा मणिपुर से शुरू की है मैं भी वहां गया था और यह यात्रा राजस्थान में भी दो दिन आएगी।'

उन्होंने आगे कहा कि राहुल गांधी ने मणिपुर से यात्रा शुरू की है जहां भाजपा की डबल इंजन की सरकार है लेकिन वहां पर भी कुछ नहीं किया गया और लोग डरे हुए हैं। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा इण्डिया गठबंधन से घबराई हुई है कि अगर इंडिया गठबंधन एकजुट होकर चुनाव लड़े तो आंकड़े सबके पास हैं। प्रधानमंत्री के पास भी है। इंडिया गठबंधन के पास 65 प्रतिशत वोट प्रतिशत है, जबकि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के पास 35 प्रतिशत वोट है। उनको पता है, मिलकर चुनाव लड़ा गया तो राजग को आसनी से हरा देंगे। इसलिए केन्द्र सरकार अपने विपक्षी लोगों के यहां छापे डालती है जबकि आज महंगाई भी नियंत्रण से बाहर है।

भाजपा सांसद के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई
उन्होंने कहा कि हम सब मिलकर चुनाव लड़ेंगे। प्रदेश की जनता की सेवा की है और करते रहेंगे और जिस राज्य का प्रभार मिला है तो उसकी भी जिम्मेदारी पूरी निष्ठा से निभाएंगे। अभी तो यात्रा असम में है। इसमें कई गैर सरकारी संगठन एवं संस्थाएं जुड़ी है और हम तो जोडऩा चाहते हैं। उन्होंने कहा कि राजस्थान में पहली बार दलित समाज से टीकाराम जूली प्रतिपक्ष के नेता बने हैं। गोविंद सिंह डोटासरा को दुबारा अध्यक्ष बनाया गया है हम सब उनके साथ मिलकर काम करेंगे।

उन्होंने कहा कि सदन में पहली बार 147 सांसदों को निलंबित कर दिया गया। संसद में जो लोग गैस लेकर आए थे। उस पर चर्चा और जांच की मांग करने पर इन सांसदों को निलंबित कर दिया गया जबकि जिस सांसद के नाम पर पास बनवाकर संसद के अंदर वे लोग आए, वह निलंबित होना चाहिए।

ट्रेंडिंग वीडियो