एसबीआई ग्राहक अलर्ट, इस छोटी सी गलती से होगा बड़ा नुकसान, साइबर अटैकर अपना रहे नया रास्ता

  • साइबर अपराधी भेज रहे ऐसा फर्जी लिंक, क्लिक करने पर नहीं हो रहा शक
  • हू बहू बैंक जैसे खुलते हैं वेबपेज, एक बार जाल में फंसने पर होगा बड़ा नुकसान

वाराणसी. जिस तेज से ऑनलाइन सर्विसेज में इजाफा हुआ है, उसी रफ्तार से साइबर फ्राॅड भी बढ़े हैं। खासतौर से बैंकिंग और ऑनलाइन पेमेंट सिस्टम आदि पर तो इसका खतरा सबसे अधिक है। ये साइबर अपराधी इतने शातिर होते हैं कि बेहद मामूली सी गलती पर आपका पूरा अकाउंट खाली कर सकते हैं। कम जानकारी और जागरूकता के अभाव के चलते अक्सर लोग साइबर फ्राॅड के चक्कर में आकर अपनी रकम लुटा बैठते हैं। अगर आप स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के खाताधारक हैं तो आपको और ज्यादा संभलकर रहना चाहिये। देश का सबसे बड़ा बैंक होने और सबसे अधिक कस्टमर होेन के चलते हैकरों के निशाने पर रहना लाजिमी है। इन दिनों साइबर अपराधी एसबीआई के ग्राहकों को ऐसे एसएमएस भेज रहे हैं जिनमें दिये गए लिंक पर क्लिक करने के बाद फर्जी वेबपेज के जरिये आपका बैंकिंग संबंधी डेटा कलेक्ट करने की कोशिश करते हैं।

 

 

क्रांति फाउंडेशन चलाने वाले वाराणसी के इंजीनियर राहुल कुमार सिंह के साथ भी ऐसा ही हुआ। उनके पास एक लिंक आया जिसमें उनका केवाइसी अपडेट न होने की बात कहते हुए उन्हें खाता व एटीएम ब्लाॅक हो जाने के लिये अलर्ट किया गया। उन्होंने जब लिंक पर क्लिक किया तो एसबइआई का एक फर्जी वेबपेज खुल गया, जिसपर बाकायदा बैंक का लोगाे बना हुआ था। वहां यूजर आईडी और पासवर्ड भरना था। उसे भरते ही एक नया पेज खुल गया जिसपर अकाउंट होल्डर का नाम, डेट ऑफ बर्थ, पैनकार्ड नंबर, फोन नंबर व ईमेल की जानकारी भरनी थी। सारी जानकारियां देने के बाद फिर नया वेबपेज खुला जिसपर एटीएम कार्ड का नंबर और उसका सीक्रेट सीवीवी नंबर से जुड़ी जानकारी भरनी थी।

 

cyber_fraud1.jpg
एसएमएस से आया लिंक और उसपर क्लिक करने पर खुला फर्जी वेबपेज IMAGE CREDIT:

 

राहुल सिंह ने बताया कि आगे की जानकारी देने के पहले वो रुक गए और तत्काल एबीआई ग्राहक सेवा केन्द्र में फोन कर इस विषय में पूछा। बैंक ने साफ इनकार कर दिया कि इस तरह की कोई जानकारी बैंक की ओर से नहीं मांगी जाती है। बैंक द्वारा बताया गया कि केवाईसी अपडेट न होने पर खाताधारकों को सीधे अपने बैंक की ब्रांच में सम्पर्क करना चाहिये। राहुल सिंह ने बताया कि उन्हाेंने लिंक पर क्लिक करने के बाद खुलने वाले सभी वेबपेज का स्क्रीन शाॅट लेकर उसे भारत सरकार के साइबर सेल को भेज दिया।

 

cyber_fraud2.jpg
एसएमएस से आए लिंक पर क्लिक करने पर खुला फर्जी वेबपेज IMAGE CREDIT:

 

बताते चलें कि कोई भी बैंक अपने ग्राहक से फोन पर उसके बैंक के डिटेल या केवाइसी से संबंधित जानकारी न मांगता है और न ही उसे ऐसा कोई फोन या मैसेज आने पर देने के लिये कहता है।

@RBI कहता है.. सतर्क रहें! KYC अपडेशन, कार्ड की जानकारी, PIN या OTP के लिए किए गए मेसेज, कॉल या लिंक से सावधान रहें!

आरबीआई अपने ग्राहकों को संभावित साइबर फ्राॅड से बचने के लिये जागरूक करता रहता है और बैंकिंग से संबंधी जरूरी नियमों से भी आगाह करता रहता है।

  • आरबीआई कहता है कि बैंकिंग लेनदेन के लिए केवल सुरक्षित वेबसाइट और एप्लिकेशन का प्रयोग करें।
  • सार्वजनिक नेटवर्क से बचें। अपने बैंकिंग संबंधित विवरण को सुरक्षित रखें।
  • अपने पासवर्ड और अन्य महत्वपूर्ण बैंकिंग डाटा को कभी भी फ़ोन पर या पर्स में न रखें।
  • अकाउंट से संबन्धित लेन-देन के बारे में तुरंत अलर्ट पाने के लिए अपने बैंक के पास अपना मोबाइल नंबर और ईमेल रेजिस्टर करें।
  • कोई भी दुविधा होने पर बैंक की ब्रांच से सम्पर्क करें।
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned