कछुए के नहीं थे पैर, डॉक्टरों ने पहिए लगाकर बनाया उसे फिट

कछुए के नहीं थे पैर, डॉक्टरों ने पहिए लगाकर बनाया उसे फिट

Soma Roy | Publish: Jun, 23 2019 02:27:10 PM (IST) अजब गजब

  • Tortoise feet : कछुए का नाम पेड्रो है, उसे इलाज के लिए वेटेरिनेरी टीचिंग हॉस्पिटल लाया गया था
  • कछुआ पहले से विकलांग था मगर कुछ दिन पहले उसके खो जाने पर उसका दूसरा पैर भी गायब हो गया था

नई दिल्ली। एक तरफ जहां इंसान ही इंसान का दुश्मन बन बैठा है, वहीं आज भी कुछ लोग ऐसे हैं जो इंसानियत के खातिर जानवर की भी मदद करते हैं। ऐसा ही एक किस्सा लुइसियाना स्टेट यूनिवर्सिटी के Louisiana State University के वेटेरियन टीचिंग हॉस्पिटल Veterinary Teaching hospital में देखने को मिला। यहां चलने में एक असमर्थ कछुए को ठीक करने के लिए उसके पैरों में पहिए लगाए गए।

मालूम हो कि पेड्रो नामक एक कछुए को एक शख्स ने गोद लिया था। उन्होंने उसे अपने बेटे की तरह प्यार दिया। जब उन्होंने कछुए को गोद लिया था। तब वो पहले से विकलांग था। उसका एक पैर नहीं था। इसके बावजूद पेड्रो सबका दुलारा था। कछुए की मालकिन के अनुसार पेड्रो कुछ दिन पहले कहीं खो गया था। मगर जब वो उन्हें वापस मिला तो उसका दूसरा पैर भी नहीं था। ये देखकर वे परेशान हो गए। तब वे उसे वेटेरियन टीचिंग हॉस्पिटल लेकर गए।

पुण्यतिथि : इमरजेंसी के बाद इंदिरा की वापसी में संजय गांधी ने निभाई थी बड़ी भूमिका, जानें उनसे जुड़ी 10 खास बातें

वहां जांच में डॉक्टरों ने पाया कि कछुए का दूसरा पैर दुर्घटना की वजह से नहीं रहा। ऐसे में उन्होंने उसका आपरेशन करने की बात कही। चूंकि हॉस्पिटल के पास कोई वैकल्पिक पैर मौजूद नहीं था, इसलिए उन्होंने इसमें पहिए लगाने का फैसला लिया। अस्पताल के कम्यूनिकेशन मैनेजर जिंजर गटर Ginger Guttner ने कहा कि मेडिकल साइंस के अनुसार इसमें कुछ गलत नही है। जानवरों की जरूरत के हिसाब से उनका ट्रांसप्लांट किया जाता है। इसमें इस बात का ध्यान रखा जाता है कि इससे जीव को कोई तकलीफ न हो।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned