यहां खूबसूरत लड़कियां को नहीं मिल रहा दूल्हा, इस वजह से करीब नहीं आते लड़के

हम बात कर रहे हैं ब्राजील के नोइवा में स्थित एक कस्बे की। पहाड़ियों के बीच एक छोटा-सा गांव है और यहां रहने वाली खूबसूरत महिलाएं प्यार के लिए तरसती हैं। ऐसे ही ब्राजील के इस नोइवा दो कोरडेएरो कस्बे में भी हैं। यहां करीब 600 महिलाओं वाले इस गांव में अविवाहित पुरुषों का मिलना बहुत मुश्किल है और शादी के लिए यहां की लड़कियों की तलाश अधूरी है।

By: Shaitan Prajapat

Updated: 22 Oct 2020, 10:27 PM IST

हम सभी जानते है कि वर्तमान में लड़कों के मुकाबले लड़कियों की संख्या कम होती जा रही है। ऐसे में लिंगानुपात की समस्याएं भी देखी जा रही है। आज आपको एक ऐसे गांव के बारे में बता रहे है जहां पर लड़कियों आपने सपनों के राजकुमार के लिए तरस रही है। वो जहां रहती है वां कोई भी मर्द नहीं रहता जिसके कारण वो उनके लिए तरसती है। हम बात कर रहे हैं ब्राजील के नोइवा में स्थित एक कस्बे की। पहाड़ियों के बीच एक छोटा-सा गांव है और यहां रहने वाली खूबसूरत महिलाएं प्यार के लिए तरसती हैं। ऐसे ही ब्राजील के इस नोइवा दो कोरडेएरो कस्बे में भी हैं। यहां करीब 600 महिलाओं वाले इस गांव में अविवाहित पुरुषों का मिलना बहुत मुश्किल है और शादी के लिए यहां की लड़कियों की तलाश अधूरी है।

 

यह भी पढ़े :— देश के इन 5 जगहों पर जाना है प्रतिबंध, लेनी पड़ती है विशेष परमिशन


सभी काम संभालती हैं महिलाएं
नोइवा कस्बे की लड़कियों को आज भी शादी लायक लड़के की तलाश है। यहां ऐसी हजारों लड़कियां हैं जिन्हें आज भी अपने सपनों के राजकुमार का इंतजार है। ब्राजील के कोरडयरो गांव में लड़कियों की नहीं बल्कि लड़कों की संख्या कम है। इसी वजह से इस गांव में पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं की ज्यादा चलती है। खेती और पशुपालन से संबंधित काम भी यहां लड़कियां ही करती हैं। यहां रहने वाली नेल्मा फर्नांडिस ने बताया था कि कस्बे में शादीशुदा मर्द हैं या फिर कोई रिश्तेदार। कस्बे में रहने वाली कुछ महिलाएं शादीशुदा हैं, लेकिन उनके पति भी साथ नहीं रहते। ज्यादा महिलाओं के पति और 18 साल से बड़े बेटे काम के लिए कस्बे से दूर शहर में रहते हैं। यहां खेती-किसानी से लेकर बाकी सभी काम कस्बे की महिलाएं ही संभालती हैं।

यह भी पढ़े :— महिला ने बताया 2019 और 2020 में अंतर, देखिए रोचक तस्वीरें

मर्द ही उनके साथ आ कर रहें
इस गांव में महिलाओं की संख्या 600 है। हालांकि शादी के लिए यहां की खूबसूरत महिलाएं कस्बे को छोडक़र नहीं जाना चाहती। एक मीडिया रिपोर्ट की मानें तो वहां की लड़कियां चाहती हैं कि शादी के बाद लडक़ा उनके कस्बे में आकर उन्हीं के नियम-कायदों का पालन कर रहे। इस गांव में शादीशुदा पुरुषों की संख्या भी काफी कम है। इसलिए वो चाहती है कि मर्द ही उनके साथ आ कर रहें। कस्बे की महिलाओं में ज्यादातर की उम्र 20 से 35 साल के बीच है।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned