रीट परीक्षा केन्द्रों पर लगेंगे पांच हजार कैमरे, RBSE खर्च करेगा पांच करोड़ रुपए

रीट में किसी भी गड़बड़ी से निबटने के लिए माध्यमिक शिक्षा बोर्ड इस बार किसी भी प्रकार की ढिलाई बरतने के मूड में नहीं है।

By: santosh

Published: 04 Jan 2018, 09:51 AM IST

सुरेश लालवानी /अजमेर। राज्य अध्यापक पात्रता परीक्षा (रीट) में किसी भी गड़बड़ी से निबटने के लिए माध्यमिक शिक्षा बोर्ड इस बार किसी भी प्रकार की ढिलाई बरतने के मूड में नहीं है। बोर्ड प्रदेश के सभी परीक्षा केन्द्रों पर पांच हजार से अधिक सीसीटीवी कैमरे लगवाएगा। इस पर अनुमानत: पांच करोड़ रुपए खर्च होंगे।

 

रीट के लिए इस बार पूरे प्रदेश में पांच सौ परीक्षा केन्द्र बनाए जा रहे हैं। परीक्षा 11 फरवरी को आयोजित होगी। इसमें लगभग साढ़े नौ लाख अभ्यर्थी शामिल होंगे। रीट के माध्यम से प्रदेश के सरकारी विद्यालयों में 35 हजार तृतीय श्रेणी अध्यापक नियुक्त होंगे।

 

नकल करना नहीं होगा आसान
शिक्षा बोर्ड ने रीट आयोजन को लेकर विशेष बंदोबस्त किए हैं। विशेष कर पूरे देश में प्रतियोगिता परीक्षाओं के दौरान नकल अथवा अन्य गड़बडि़यों की बढ़ती घटनाओं की वजह से लाखों अभ्यर्थियों को नुकसान उठाना पड़ता है। इसी को ध्यान में रखते हुए बोर्ड सभी परीक्षा केन्द्रों पर सीसीटीवी कैमरों का जाल बिछाएगा। इसका नियंत्रण बोर्ड कार्यालय में होगा जहां परीक्षा की प्रत्येक हलचल पर बोर्ड अधिकारी सीधी नजर रखेंगे। बोर्ड ने 2011 व 2012 में आरटेट और 2015 में रीट का आयोजन सफलता पूर्वक किया था।

 

बोर्ड को करोड़ों की बचत
बोर्ड अब तक रीट सहित सालाना परीक्षाओं में फर्म रील के माध्यम से सीसीटीवी कैमरे लगवाता रहा है लेकिन इस बार बोर्ड प्रशासन ने कैमरों के लिए प्रदेश के बाहर पूरे देश की फर्मों को आमंत्रित किया था। इसके सकारात्मक परिणाम भी सामने आए हैं। सीसी कैमरे लगाने वाली अन्य फर्म ने लगभग आधी दरों पर कैमरे लगाने की पेशकश की है। इससे इस बार बोर्ड को करोड़ों रुपए की बचत होगी।

 

बोर्ड में हुई प्री-बिड बैठक
रीट आयोजन को लेकर बुधवार को बोर्ड कार्यालय में देश भर से आई फर्म के प्रतिनिधियों के साथ प्री-बिड बैठक आयोजित हुई। इसमें परीक्षा के दौरान सीसी कैमरों की संख्या, उनके संचालन सहित अन्य शर्तों पर बातचीत हुई।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned