scriptजलकुंभी बनी जलीय जीवों की दुश्मन, आंख मूंद कर बैठा प्रशासन….पढ़ें यह न्यूज | Patrika News
अलवर

जलकुंभी बनी जलीय जीवों की दुश्मन, आंख मूंद कर बैठा प्रशासन….पढ़ें यह न्यूज

अलवर-जयपुर सड़क पर रूपारेल बारां बियर के नाम से प्रसिद्ध जलधारा प्रदूषित हो रही है। इससे मछली व कछुआ सहित अन्य जीव खतरे में है। पानी में जलकुंभी छाने के साथ इसमें प्ला​स्टिक व अन्य कचरा भी डाला जा रहा है।

अलवरApr 18, 2024 / 07:03 pm

Ramkaran Katariya

मालाखेड़ा. अलवर-जयपुर सड़क पर रूपारेल बारां बियर के नाम से प्रसिद्ध जलधारा फैली जलकुंभी व प्लास्टिक आदि डाले जाने से प्रदूषित हो रही है, इसके बाद भी संबंधित विभाग व प्रशासन की ओर से ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इससे इसमें पल रहे जलीय जीवों का जीवन खतरे में नजर आ रहा है। विशेषकर मछली व कछुओं को भोजन व जल में विचरण में दिक्कत हो रही है।
आसपास के लोगों व वनप्रेमियों का कहना है कि नटनी का बारां में जलकुंभी जलीय जीवों की दुश्मन बनती जा रही है। पानी में लगातार जलकुंभी का दायरा बढ़ता ही जा रहा है। इससे जहां पानी का बहाव कम हो रहा है, वहीं पानी अशुद्ध व विषैला बना रही है। नदी की इस धारा में लोगों की ओर से प्लास्टिक की थैलियां सहित अन्य कचरा डाला जा रहा है। इससे पानी प्रदूषित हो रहा है। जलकुंभी के फैलने व पानी में प्लास्टिक व अन्य कचरा डाले जाने के कारण जलीय जीवों की जान को भी खतरा बढ़ता जा रहा है, इसके बाद भी वन विभाग व जिला प्रशासन की ओर से इस तरफ ध्यान नहीं दिया जा रहा है। हरियाली से आच्छादित इस स्थल पर नदी को लगातार प्रदूषित किया जा रहा है। आरोप है कि जिम्मेदार अधिकारी व कर्मचारी आंखें बंद किए बैठे हैं। यहां मौके पर पानी में एक तरफ जहां जलकुंभी ने अपना जाल फैलाया हुआ है, वहीं दूसरी तरफ प्लास्टिक सहित अन्य कचरा पानी में तैरता दिखाई दे रहा है।
कराए गए थे विकास कार्य

लोगों के अनुसार तत्कालीन कलक्टर आशुतोष ने अलवर सांसद व अलवर ग्रामीण विधायक कोटे से आवंटित राशि से यहां कई विकास कार्य कराए गए थे। इसके बाद डॉ. जितेंद्र सोनी ने डीएमएफटी योजना से करोड़ों रुपए के विकास कार्य करवा कर रूपारेल नदी के बहाव क्षेत्र को नया रूप देने का प्रयास किया था, लेकिन अब इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जिससे यहां किए गए करोड़ों खर्च के कार्यों पर पानी फिरता नजर आ रहा है।
तेजी से बढ़ रही जलकुंभी

स्थानीय लोगों का कहना है कि जलकुंभी काफी तेजी से बढ़ रही है। इसलिए प्रशासन इसका जल्द से जल्द समाधान करें, अन्यथा मछली एवं जलचर जीवों की जान को खतरा और बढ़ सकता है। जलीय जीवों के मरने से व कचरे के कारण जल भी प्रदूषित हो सकता है। इसलिए लोगों ने इस को लेकर ठोस कदम उठाए जाने की मांग की है। इधर मामले में संबंधित अधिकारियों से संपर्क का प्रयास किया, लेकिन बात नहीं हो पाई।

Hindi News/ Alwar / जलकुंभी बनी जलीय जीवों की दुश्मन, आंख मूंद कर बैठा प्रशासन….पढ़ें यह न्यूज

loksabha entry point

ट्रेंडिंग वीडियो