कजाखस्तान में चीन विरोधी प्रदर्शन तेज, 50 से अधिक गिरफ्तार

  • चीन कजाखस्तान में अपने यहां के कुछ संयंत्र और फैक्ट्रियां लगाना चाहता है
  • चीन ने कजाखस्तान में सबसे अधिक निवेश किया है

By: Anil Kumar

Updated: 21 Sep 2019, 10:54 PM IST

अल्माटी। चीन के खिलाफ हांगकांग में जून से लगातार प्रदर्शन का दौर जारी है और अब कजाखस्तान में भी भारी विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है।

सोवियत गणराज्य का हिस्सा रहे मध्य एशियाई देश कजाखस्तान में चीन के बढ़ते प्रभाव को लेकर लोगों ने अब विरोध करना शुरू कर दिया है। शनिवार को कजाख्सतान के दो सबसे बड़े शहरों में लोग सड़क पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया।

हांगकांग: प्रदर्शनकारियों को कुचलने की कोशिश में चीन, लोकतंत्र समर्थक वोंग समेत तीन गिरफ्तार

हालांकि यहां पर भी हांगकांग की तरह ही प्रदर्शनकारियों को दबाने के लिए सख्ती की गई और 50 से अधिक प्रदर्शनकारियों को हिरासत में ले लिया गया है।

china_protest.jpg

कजाखस्तान में चीनी निवेश सबसे अधिक

आपको बता दें कि चीन अपने विस्तारवादी नीति के लिए हमेशा से जाना जाता रहा है। इसके लिए पहले वह छोटे-छोटे देशों में निवेश को बढ़ाता है और फिर वहां की सत्ता पर धीरे-धीरे नियंत्रण कर लेता है।

कुछ ऐसा ही कजाखस्तान में भी देखने को मिल रहा है। चीन ने कजाखस्तान में बहुत बड़ा निवेश किया है। चीन ऐसा करने वाला सबसे बड़ा देश है। इतना ही नहीं चीन पड़ोसी देश कजाखस्तान का कारोबारी साझेदार देश भी है।

ऐसे में चीन चाहता है कि वह अपने यहां के कुछ संयंत्रों और फैक्ट्रियों को कजाखस्तान में स्थापित करे, लेकिन स्थानीय लोग इसे लेकर विरोध पर उतर आए हैं।

हांगकांग प्रोटेस्ट के खिलाफ अफवाह फैलाने वाले 200 यूट्यूब चैनल निष्क्रिय, चीन के थे सभी अकाउंट

कजाखस्तान के आंतरिक मंत्रालय ने बताया है कि 57 लोगों को हिरासत में लिया गया है। उनके खिलाफ आरोप लगाए जा सकते हैं। वहीं पुलिस का कहना है कि हिरासत में लिए गए लोगों को पूछताछ के बाद छोड़ दिया जाएगा।

बता दें कि शनिवार के विरोध प्रदर्शन का आयोजन फ्रांस में शरण लेने वाले कजाखस्तान के बैंकर मुख्तार अबलयाजोव के समर्थकों ने किया था। अबलयाजोव कजाखस्तान के पहले राष्ट्रपति नूर सुल्तान नझरबायेव के कट्टर आलोचक रहे हैं।

मालूम हो कि नझरबायेव ने तीस साल तक सत्ता में रहने के बाद पिछले मार्च में पद छोड़ा था, लेकिन दूसरे तरीके से फिर सत्ता पर कब्जा जमा लिया है।

Read the Latest World News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi पत्रिका डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर.

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned