पाकिस्तान: जैश और लश्कर पर कसा शिंकजा तो ISI ने बदली रणनीति, भारत के लिए नया खतरा

  • आईएसआई (ISI) ने अब कश्मीर में आतंक फ़ैलाने के लिए छोटे आतंकी संगठनों को संगठित करने की कोशिश की है
  • बालाकोट एयरस्ट्राइक ( balakot air strike) हमले से डरा हुआ है पाकिस्तान

By: Mohit Saxena

Updated: 12 Jul 2019, 07:26 AM IST

नई दिल्ली। बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद से पाकिस्तान में बीते आठ सालों से फल-फूल रहे आतंकी संगठनों ने अपनी रणनीति बदल दी है। पाकिस्तान की इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस एजेंसी आईएसआई (ISI) आतंकी संगठनों में जैश-ए-मोहम्मद, जमात उद दावा, लश्कर-ए-तैयबा, हिजबुल मुजाहिदीन को दोबारा से संगठित करने की कोशिश कर रहा है। दरअसल बालाकोट एयरस्ट्राइक से पाकिस्तान डरा हुआ है। उसने अब आतंकी संगठनों को सीमा से दूर रहने की सलाह दी है। सभी भारत पर हमले की नई योजना पर काम कर रहे हैं।

यूएई के इंजीनियर की हैदराबाद में हत्या, दुबई पुलिस करेगी मदद

flags

अफगान सीमा तक खिसके आतंकी संगठन

बालाकोट एयरस्ट्राइक के बाद आतंकी संगठन एलओसी (LOC) से हटकर अफगानिस्तान सीमा की ओर चले गए हैं। उन्हें पाक एजेंसी ने हिदायत दी है कि वह भारतीय सीमा दूर रहें। इस तरह से पाकिस्तान दुनिया को दिखाना चाहता है कि उसने कार्रवाई कर लाइन आफ कंट्रोल (LOC) से आतंकियों को हटा दिया है। वह इन संगठनों को छिपाकर अपनी पीठ थपथपाना चाहता है। दरअसल अमरीका और भारत आतंकवाद के खिलाफ जीरों टॉलरेंस चाहते हैं। ऐसे में दुनिया की सहानुभूति पाने के लिए वह नई रणनीति पर काम कर रहा है।

ईमेल लीक मामला: अमरीका और ब्रिटेन में ठनी, ट्रंप ने थेरेसा मे को कहा 'मूर्ख'

सैन्य प्रतिष्ठानों की सुरक्षा बढ़ाई

एक खुफिया रिपोर्ट के अनुसार पाकिस्तान अपने सैन्य प्रतिष्ठानों की सुरक्षा को मजबूत कर रहा है और भविष्य में भारत से अधिक तीव्रता के हमले की आशंका के कारण सीमा पर निगरानी बढ़ा दी है। आतंकी शिविरों पर आईएएफ के अचानक और सटीक हमले ने पाकिस्तान को पूरी तरह से अनजान बना दिया था और अपने सशस्त्र बलों पर जवाबी कार्रवाई करने के लिए दबाव बढ़ा दिया था।

 

airstrike

घुसपैठ में 43 प्रतिशत की कमी आई

केंद्र ने जोर देकर कहा है कि बालाकोट में भारतीय वायु सेना के हमले के बाद पाकिस्तान से घुसपैठ में 43 प्रतिशत की कमी आई है। मंगलवार को संसद में एक लिखित जवाब में, गृह मंत्रालय ने कहा कि सुरक्षा बलों के केंद्रित और समन्वित प्रयासों के कारण,जम्मू और कश्मीर में सुरक्षा स्थिति में 2018 की पहली छमाही में सुधार देखा गया है।

तीन आतंकी शिविर किए थे तबाह

भारतीय वायुसेना ने फरवरी 2019 में जैश-ए-मोहम्मद (JeM) से जुड़े आतंकी प्रशिक्षण शिविरों को निशाना बनाते हुए पाकिस्तान के बालाकोट के अंदर एक बड़ा हवाई हमला किया था। इस में आतंकियों के तीन शिविरों को तबाह कर दिया गया था। बताया गया है कि हमले में करीब 200 से अधिक आतंकी मारे गए थे। यह हमला सुबह साढ़े तीन बजे किया गया था।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

Show More
Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned