पाकिस्‍तान में 15 वर्षीय हिंदू बच्ची को जबरन इस्लाम धर्म कबूल कराया, किया निकाह

Highlights

  • 13 मार्च को अपहरण के बाद बच्‍ची को फैसलाबाद ले जाया गया।
  • 4 लाख रुपये फिरौती की रकम लेने के बाद भी नहीं लौटाया।
  • गांव के मुखिया ने सूचना दबाने की कोशिश की।

By: Mohit Saxena

Updated: 03 Apr 2020, 07:28 AM IST

बहावलपुर। पाकिस्तान में हिंदू बच्चियों पर अत्याचार की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रहीं हैं। हाल ही में एक मामला पाकिस्तान के बहावलपुर से आया है। यहां पर एक 15 वर्षीय हिंदू किशोरी का अपहरण करके उसके साथ दुष्कर्म किया गया। यहीं नहीं पीड़िता का धर्म परिवर्तन कर जबरन इस्लाम धर्म कबूल कराया गया। मुनीर अहमद नाम के शख्स के साथ उसका निकाह कराया गया।

चीन के शेन्जेन शहर में बना नया कानून, कुत्ते और बिल्ली के मांस पर लगा बैन

गौरतलब है कि हिंदू बच्‍ची को उसके गांव में ही रहने वाले मुनीर अहमद ने अपहरण कर लिया था। 13 मार्च को अपहरण के बाद बच्‍ची को फैसलाबाद ले जाया गया। यहां पर जबरन उसे इस्‍लाम धर्म कबूल कराया गया। मुनीर ने इसके बाद हिंदू बच्‍ची से जबरन शादी कर ली। उधर,बच्‍ची की मां को अब डर सता रहा है कि मुनीर उन्‍हें और उनके पांच अन्‍य बच्‍चों को भी परेशान कर सकता है।

बच्ची के पिता की पहले हो चुकी है मौत

बच्ची के पिता की पहले ही मौत हो चुकी है। बच्ची की मां ही पूरे घर का खर्च उठा रही थी। मजदूरी और खेती कर अपने छह बच्चों का वह पेंट पाल रही थी। बेटी के अपहरण होने से मां काफी दुखी है।

हैवान ने 4 लाख रुपये लेकर भी नहीं लौटाई बच्‍ची

बच्‍ची की मां ने कहा कि उसने अपनी बेटी के गायब होने की सूचना गांव के मुखिया को दी थी। तो उसने पुलिस में शिकायत करने की बजाय कहा कि मुनीर खान ने उनकी बेटी का अपहरण किया है और 4 लाख रुपये फिरौती मांग रहा है।

लाचार मां के भतीजे ने हिंदू समुदाय से पैसा इकट्ठा किया। जब मुनीर अहमद को यह पैसा दिया तो उसने उसे रख लिया, लेकिन बच्‍ची को र‍िहा नहीं किया। पाकिस्‍तान के पीएम इमरान खान ने बीते दिनों कहा था कि किसी भी अल्‍पसंख्‍यक समुदाय के सदस्‍य के साथ ज्‍यादती बर्दाश्‍त नहीं की जाएगी। मगर इसके उलट पाकिस्तान में आए दिन ऐसे मामले देखने को मिल रहे हैं।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned