जहां हुआ था योगी पर हमला सीएम बनने के बाद वहीं करने जा रहें यह खास काम

जहां हुआ था योगी पर हमला सीएम बनने के बाद वहीं करने जा रहें यह खास काम

Jyoti Mini | Publish: Nov, 14 2017 03:30:31 PM (IST) Azamgarh, Uttar Pradesh, India

अति पिछड़ों का गांव अमिलो नगरपालिका में जुड़ने से भाजपाइयों को दिख रहा है मौका

आजमगढ़. मतदान की तिथि जैसे जैसे करीब आ रही है, सरगर्मी बढ़ती जा रही है। मुबारकपुर के तत्कालीन नगरपालिका अध्यक्ष विवादित बयान देकर चर्चा में हैं और पुलिस कार्रवाई झेल रहे हैं तो सपा विद्रोह से परेशान है। रहा सवाल भाजपा का तो वह आज तक कभी यह सीट नहीं जीत पाई है। अति पिछड़ा बाहुल्य गांव अमिलों के नगर पालिका में जुड़ने के बाद भाजपाई उत्साहित हैं। बीजेपी अपनी पूरी ताकत लगा रही है। यहीं वजह है कि, बीजेपी के लोग सीएम योगी की सभा प्रचार के अंतिम दौर में चाहते हैं, लेकिन एक सवाल हर किसी के दिल में कौध रहा है कि क्या सीएम योगी मुबारकपुर में बीजेपी का खाता खोल पाएंगे। कारण कि उनकी यहां छवि कट्टर हिंदू नेता की है और आजमगढ़ में उनपर एक बार जान लेवा हमला भी हो चुका है।


बता दें कि, आजमगढ़ की दो नगरपालिका और 11 नगरपंचायतों के लिए 22 नवंबर को मतदान होना है। चारों बड़े दल सपा, बसपा, भाजपा और कांग्रेस सिंबल पर चुनाव लड़ रही है। सभी दल आजमगढ़ के साथ ही मुबारकपु में भी भीतरघात के खतरे से जूझ रहे हैं। वैसे यहां भाजपा में घमासान कम है। कारण कि बीजेपी का प्रदर्शन यहां हमेशा खराब रहा है। पिछले दो चुनाव से सपा और बसपा भी खाता नहीं खोल सकी है। निर्दल डा. शमीम सीट पर कब्जा जमाए हुए हैं।


लोकसभा का सेमीफाइनल मानकर इस चुनाव को लड़ रहे दल किसी भी हालत में यह सीट जीतना चाहते हैंं। यहां माहौल इसलिए और भी गर्म हो गया है कि यहां के निवर्तमान चेयरमैन डा. शमीम ने एक बयान में कहा कि, जब लड़के बड़े हो जाएंगे तो वे सबको एक एक लड़की देंगे। इस बयान से जहां वे विवादों में घिर गए हैं और विपक्ष को घेरेबंदी का मौका मिल रहा है।


दूसरी महत्वपूर्ण बात इस नगरपालिका में अमिलों गांव का जुड़ना है। नगरपालिका में पहले करीब 40 हजार मत थे। इस गांव के जुड़ने के बाद मतदाताओं की संख्या बढ़कर साठ लाख के करीब पहुंच गई है। कारण कि यह ग्रमापंचायत जिले की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत है और यहां मुस्मिल के साथ अति पिछड़ों की आबादी काफी अधिक है।


हाल के चुनाव में अति पिछड़े बीजेपी के प्रति लामबंद होकर मतदान किये हैं। इससे बीजेपी उत्साहित है। वहीं सपा बसपा को भरोसा है कि मुस्लिम उनके साथ जाएंगे। लेकिन सपा के दो नेता मैदान में है जिसके कारण पार्टी की परेशानी बढ़ी हुई है। बसपा को भी भीतरघात का सामना करना पड़ रहा है।


ऐसे में भाजपा का मानना है कि यदि सीएम योगी की सभा चुनाव प्रचार के अंतिम दौर में होती है तो उनके लिए सुनहरा मौका बन सकता है। कारण कि योगी की छवि आजमगढ़ में कट्टर हिंदू नेता की है और उनकी सभा के बाद आजमगढ़ के साथ ही मुबारकपुर के भी मतदाता लामबंद हो सकते हैं। इसलिए वे 16 के बजाय 19 को सभा चाहते हैं। वहीं राजनीति के जानकारों की माने तो सीएम की सभा से माहौल में बहुत अधिक बदलाव नहीं होने वाला है। कारण कि पहले भी विधानसभा और लोकसभा चुनावों में योगी की सभा होती रही है लेकिन पार्टी के प्रदर्शन में कोई सुधार नहीं हुआ।

input- रणविजय सिंह

Ad Block is Banned