आजीवन सपा का झंडा उठाने वाले इस नेता ने कहा, यहां किसी गैर यादव को बनाएं अध्यक्ष

सपा के रंग में रंगे इस समाजवादी नेता की अखिलेश से अपील, अब मत बनाएं किसी यादव को अध्यक्ष

सपा के उदय के साथ ही केदार यादव झंडे का ही बना लिया चोला आज तक नहीं पहना दूसरा वस्त्र

सूरज की पहली किरण के साथ ही झंडा लेकर निकलते है घर से दिन ढलने तक करते रहते हैं पार्टी की नीतियों का प्रचार

लाल कुर्ता, हरा पजामा, लाल टोपी व डेढ़ मीटर का झंडा ही है केदार यादव की पहचान

सपा धर्मनिपेक्ष पार्टी किसी अति पिछड़े को दे मौका ताकि 2022 में दसो सीट पर हो सके कब्जा

आजमगढ़. यूं तो आजमगढ़ हमेंशा से समाजवादियों का गढ़ रहा है। सपा मुखिया अखिलेश यादव यहां के सांसद है लेकिन पिछले एक साल में पार्टी एक जिलाध्यक्ष नहीं चुन पाई है। वजह गुटबाजी और नेताओं की महत्वाकांक्षा है। यह बात अब उन कार्यकर्ताओं को अखरने लगी है जिन्होंने बिना स्वार्थ आजीवन सपा का झंड़ा ढोया लेकिन पार्टी से कभी कोई अपेक्षा नहीं की।

ऐसे ही एक नेता हैं केदार यादव जो सदर विधानसभा के चक भाई खां गांव के रहने वाले है। वर्ष 1992 में जब सपा का गठन हुआ तो केदार यादव सपा मुखिया मुलायम सिंह के साथ खड़े हो गए। समाजवाद को आगे बढ़ाने के लिए केदार ने सबसे पहले अपने वस्त्र त्याग दिये और साप के झंडे को ही अपना वस्त्र बना लिया।

लाल कुर्ता, हरा पजामा, लाल टोपी, सपा के झंडे के रंग में रंगी पांच फिट की लाठी और उसमें लगा डेढ़ मीटर का झंडा ही केदार यादव की पहचान है। वे सुबह सात बजे घर से निकलते हैं और दिन ढलने तक सपा का प्रचार करते रहते है। आजमगढ़ ही नहीं पूरे पूर्वांचल में लोग केदार यादव को जानते हैं। केदार यादव ने कभी सांसद, विधायक बनने अथवा पार्टी संगठन में कोई पद हासिल करने की अपेक्षा नहीं की। बस एकला चलों की राह पर चलते जा रहे हैं। उनका मात्र एक उद्देश्य है समाजवादी पार्टी को शिखर पर पहुंचाना। इसके लिए केदार यादव निरंतर प्रयास करते रहते हैं लेकिन आज वह भी कहीं न कहीं पार्टी की हालत देख आहत है।

28 साल से सपा का झंडा ढो रहे केदार पहली बार अपनी ईच्छा जाहिर की है। केदार कहते हैं कि जब से सपा का गठन हुआ तब से यादव ही आजमगढ़ का जिलाध्यक्ष बना। समाजवादी पार्टी एक धर्म निरिपेक्ष पार्टी है। हम सभी जाति और धर्म के लोगों को साथ लेकर चलने में विश्वास करते है। पार्टी पर जातिवाद का आरोप लगता है तो दुख होता है। इसलिए मैं चाहता हूं कि इस बार किसी ऐसे गैर यादव को जिलाध्यक्ष बनाया जाय जो सर्व समाज को पार्टी से जोड़कर उसे मजबूत बना सके। खासतौर पर अगर जिलाध्यक्ष चैहान अथवा राजभर समाज का हो तो सबसे बढ़िया होगा। उन्होंने पूर्व मंत्री राम दुलारे राजभर का नाम भी सुझा दिया। यहीं नहीं उन्होंने दावा किया कि अगर गैर यादव जिलाध्यक्ष बनता है तो पार्टी और मजबूत होगी और 2022 में पार्टी सभी 10 विधानसभा सीटों पर कब्जा करेगी तथा अखिलेश यादव फिर से मुख्यमंत्री बनेंगे।

BY Ran vijay singh

Show More
रफतउद्दीन फरीद
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned