कोरोना संक्रमण के बीच अमित राणा की अवैध मेडिकल स्टोर पर छापा, लाखों की दवाइयां जब्त

  • शिकायत मिलने के बाद प्रशासन ने की कार्रवाई

By: Iftekhar

Published: 18 Apr 2020, 08:18 PM IST

 

बागपत. अवैध रूप से संचालित मेडिकल स्टोर की शिकायत मिलने के बाद ड्रग विभाग ने कार्रवाई करते हुए इस मेडिकल स्टोर पर छापा मारा और लाखों रुपए की दवाई जब्त कर ली है। मेडिकल स्टोर संचालक के पास लाइसेंस नहीं था, लिहाजा औषधि अधिनियम के तहत उसके खिलाफ कार्रवाई की गई। लॉकडाउन के दौरान बागपत जनपद में सभी लोगों को खाना और दवाई समय से मिले, इसके लिए प्रशासन प्रयासरत है। इसी कड़ी में विभिन्न अधिकारियों को जिम्मेदारी सौंपकर उन्हें कार्रवाई और मदद करने के लिए कहा गया है। इस बीच बार-बार प्रशासन की ओर से चेतावनी दी जा रही है कि कालाबाजारी और अवैध काम करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। लेकिन इसका असर कुछ लोगों पर पड़ता नहीं दिखाई दे रहा है।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन के बीच आसमानी बिजली गिरने से दो बच्चों की दर्दनाक मौत

जनपद के दोघट थाना क्षेत्र स्थित निर्गुणडा गांव में एक मेडिकल स्टोर अवैध रूप से संचालित था, जिसकी शिकायत विभाग को मिली थी। इसके बाद औषधि विभाग के अफसरों ने उस दुकान पर छापा मार कार्रवाई की। इस दौरान औषधि निरीक्षक वैभव ने बताया कि शिकायत के बाद उन्होंने गांव पहुंचकर मेडिकल स्टोर पर छापा मारा। इस दौरान पाया कि यह मेडिकल स्टोर बिना लाइसेंस के चल रहा था। सूचना सही पाए जाने पर दो संदिग्ध दवाओं के विभाग की ओर से नमूने भी लिए गए हैं और एक लाख से अधिक कीमत की दवा को जब्त कर लिया गया है।

यह भी पढ़ें: अब नहीं छूटेगा एक भी कोरोना पीड़ित, शुरू हुई डोर-टू-डोर थर्मल स्क्रीनिंग

वहीं, मेडिकल स्टोर संचालक का कहना है कि दवाइयां उसने खरीदी थी। चाहे तो विभाग के अफसर इस बात की जांच कर लें, लेकिन अधिकारियों ने मेडिकल स्टोर संचालक अमित राणा के विरुद्ध दोघट थाना क्षेत्र में औषधि अधिनियम के तहत 1940 की धारा 18/ 27 और आईपीसी 420 के तहत दर्ज करा दी है। ड्रग इंस्पेक्टर वैभव बब्बर ने चेतावनी दी है कि जनपद में अवैध रूप से स्टोर संचालित नहीं होने दिए जाएंगे। इसके साथ ही कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

Iftekhar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned