scriptMore than 14 lakh quintals of paddy purchased, 70 thousand MT transpor | 14 लाख क्विंटल से अधिक हुई धान की खरीदी, 70 हजार एमटी का हुआ परिवहन | Patrika News

14 लाख क्विंटल से अधिक हुई धान की खरीदी, 70 हजार एमटी का हुआ परिवहन

locationबालाघाटPublished: Dec 26, 2023 10:55:09 pm

Submitted by:

Bhaneshwar sakure

केन्द्रों में अभी भी खुले में भंडारित है धान
केन्द्रों में जगह नहीं मिलने से परेशान हो रहे किसान

26_balaghat_115.jpg

बालाघाट. जिले में समर्थन मूल्य पर 14 लाख क्विंटल से अधिक की धान खरीदी की गई है। केवल 70 हजार मिट्रिक टन धान का ही परिवहन हो पाया है। आलम यह है कि अभी भी खरीदी केन्द्रों में खुले में धान का भंडारण किया गया है। इधर, केन्द्रों में जगह नहीं मिलने से किसानों को काफी परेशानी हो रही है।
जानकारी के अनुसार जिले में 185 केन्द्रों में समर्थन मूल्य पर धान की खरीदी की जा रही है। धान की बिक्री करने के लिए 117596 किसानों ने अपना पंजीयन कराया है। 26 दिसंबर तक अपनी उपज बेचने के लिए 60857 किसानों ने स्लॉट बुक कराया है। वहीं अभी तक 30080 किसानों ने अपनी उपज बेची है। इन किसानों से 1430620.15 क्विंटल धान की खरीदी की जा चुकी है। विडंबना यह है कि किसानों से धान तो खरीदी जा रही है, लेकिन उसका धीमी गति से परिवहन हो रहा है। जिसके कारण केन्द्रों में खुले में धान भंडारित है।
करीब 250 वाहनों से हो रहा धान का परिवहन
विपणन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार समर्थन मूल्य पर किसानों से क्रय किए धान का करीब 250 वाहनों से परिवहन किया जा रहा है। धान परिवहन का कार्य बीते 2 दिनों से किया जा रहा है। बताया गया है कि धान परिवहन को लेकर विभागीय तौर पर अनुमति नहीं मिल पाई थी। जिसके कारण समय पर धान का परिवहन नहीं हो पाया था। इसी वजह से केन्द्रों में ही धान को भंडारित करना पड़ा था। जिला विपणन अधिकारी ने बताया कि धान परिवहन को लेकर जिले को 4 सेक्टर में विभाजित किया गया है। इन चारों सेक्टर में अलग-अलग परिवहनकर्ताओं के माध्यम से धान का परिवहन कराया जा रहा है। आगामी समय में वाहनों की संख्या और बढऩे की संभावना है।
मौसम विभाग ने जताई बारिश की संभावना
जिला कृषि मौसम इकाई कृषि विज्ञान केन्द्र बडग़ांव से प्राप्त जानकारी के अनुसार 31 दिसंबर से 4 जनवरी तक पूरे प्रदेश में बारिश की संभावना जताई है। ऐसे में खरीदी केन्द्रों में खुले में भंडारित धान के पानी में भीगने की संभावना प्रबल है। जिससे किसानों और शासन-प्रशासन को क्षति होगी।
किसानों को केन्द्रों में नहीं मिल पा रही है जगह
परिवहन के अभाव में केन्द्रों में ही धान का भंडारण होने से सिकानों को जगह नहीं मिल पा रही है। दरअसल, किसान अपनी उपज बेचने के लिए केन्द्र पहुंच रहे हैं। लेकिन में पहले से ही भंडारित धान के कारण उन्हें स्थान नहीं मिल पा रहा है। जिसके कारण किसानों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।
इनका कहना है
जिले के खरीदी केन्द्रों से अभी तक 70 हजार एमटी धान का परिवहन हो चुका है। परिवहन का कार्य जारी है। परिवहन की व्यवस्था के लिए जिले को 4 सेक्टर में बांटा गया है। करीब 250 वाहनों से धान का परिवहन कराया जा रहा है। आगामी समय में वाहनों की संख्या और बढ़ाई जाएगी।
-हीरेन्द्र रघुवंशी, डीएमओ, बालाघाट
जिले में अभी तक 30080 किसानों से 1430620 क्विंटल धान की खरीदी की गई है। 60857 किसानों ने अपनी उपज बेचने के लिए स्लॉट बुक कराया है। धान खरीदी का कार्य 185 केन्द्रों में किया जा रहा है। समर्थन मूल्य पर धान की बिक्री करने के लिए 117596 किसानों ने अपना पंजीयन कराया है।
-आरसी पटले, सीईओ, जेएसके बैंक, बालाघाट

ट्रेंडिंग वीडियो