script शिक्षा प्रशिक्षण संस्थान के लिए 5 एकड़ जमीन का चयन कर प्रस्ताव डेढ़ साल से शासन के पास अटका | Education Training Institute | Patrika News

शिक्षा प्रशिक्षण संस्थान के लिए 5 एकड़ जमीन का चयन कर प्रस्ताव डेढ़ साल से शासन के पास अटका

locationबालोदPublished: Dec 11, 2023 06:14:21 pm

ग्राम जुंगेरा में जिले का पहला शिक्षा प्रशिक्षण संस्थान खोलने एक साल पहले जगह का चयन कर शासन को प्रस्ताव भेजा गया था। शासन से दोबारा कोई जवाब नहीं आया। शिक्षा विभाग ने लगभग 5 एकड़ जमीन का चयन कर जानकारी भेजी है।

शासन से दोबारा नहीं आया कोई जवाब

बालोद. ग्राम जुंगेरा में जिले का पहला शिक्षा प्रशिक्षण संस्थान खोलने एक साल पहले जगह का चयन कर शासन को प्रस्ताव भेजा गया था। शासन से दोबारा कोई जवाब नहीं आया। शिक्षा विभाग ने लगभग 5 एकड़ जमीन का चयन कर जानकारी भेजी है। प्रस्ताव भेजने के डेढ़ साल बाद भी प्रक्रिया आगे नहीं बढऩे से जिले के युवाओं में मायूसी है। वहीं जिला शिक्षा अधिकारी ने कहा कि जिला स्तर पर लगातार प्रयास चल रहा है।

अब नई सरकार से आस, बजट में शामिल हो तो बढ़ेगी आगे की प्रक्रिया
प्रदेश में नई सरकार का गठन हो चुका है। कांग्रेस कार्यकाल में संस्थान नहीं खुल पाया। अब भाजपा सरकार से उम्मीद बढ़ गई है। शासन बजट में शामिल कर दे तो कोई परेशानी नहीं होगी। ग्राम जुंगेरा में जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान खुलने पर शिक्षकों को शिक्षा से जुड़ी गतिविधियों के संबंध में प्रशिक्षण दिया जाएगा।

शिक्षक बनने का सफर हो जाएगा आसान
वहीं 12वीं उत्तीर्ण के बाद प्री-डीएड परीक्षा में चयनित स्टूडेंट्स को दो साल का कोर्स करने का मौका मिलेगा। इसके बाद शिक्षक बनने का सफर आसान हो जाएगा।

संचालक ने 7 जिले के डीईओ से मांगा था प्रस्ताव
वर्ष 2018 में राज्य शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद के तत्कालीन संचालक ने बालोद सहित 7 जिले के डीईओ को संस्थान खोलने के संबंध में पत्र भेजा था। जमीन उपलब्ध कराकर प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए थे।

जिले में संस्थान खुलने से होगा लाभ
वर्तमान में शिक्षा संबंधित प्रशिक्षण के लिए शिक्षकों को दुर्ग जाना पड़ रहा है। इसके पहले बेमेतरा जाना पड़ता था। बालोद के नजदीक में ही संस्थान खुलेगा तो कई फायदे होंगे।

शिक्षकों और विद्यार्थियों को होगी आने-जाने में सुविधा
शिक्षा विभाग ने प्रशिक्षण संस्थान के लिए बालोद-डौंडीलोहारा मुख्य मार्ग से 100 मीटर दूर जमीन का चयन किया है। शिक्षकों व डीएड कोर्स करने वाले छात्र-छात्राओं को आने-जाने में परेशानियों का सामना नहीं करना पड़ेगा। जिले में ही डीएड कोर्स की पढ़ाई होने से प्रदेश के दूसरे जिलों के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे।

शिक्षकों व विद्यार्थियों के लिए जरूरी है प्रशिक्षण संस्था
शिक्षकों व स्टूडेंट्स के लिए जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान महत्वपूर्ण है। संस्थान एक नोडल एजेंसी के रूप में कार्य करती है, जो प्राथमिक शिक्षा और राष्ट्रीय साक्षरता मिशन के विशेष संदर्भ में प्राथमिक और शिक्षा के क्षेत्रों में किए गए विभिन्न रणनीतियों और कार्यक्रमों की सफलता के लिए जमीनी स्तर पर प्रचार-प्रसार और समर्थन देने का कार्य करती है।

निर्देश पर होगी कार्रवाई
बालोद डीईओ मुकुल केपी साव ने कहा कि शासन की मांग पर जमीन का चिंहाकन कर शासन को भेज दिया है। शासन से दोबारा किसी भी प्रकार की जानकारी नहीं मांगी गई है। शासन के निर्देशानुसार आगे को कार्यवाही की जाएगी।

ट्रेंडिंग वीडियो