scriptFuture politics will be in the hands of youth in Vagad | वागड़ में युवाओं के हाथ रहेगी भावी राजनीति | Patrika News

वागड़ में युवाओं के हाथ रहेगी भावी राजनीति

locationबांसवाड़ाPublished: Dec 09, 2023 08:28:13 pm

बांसवाड़ा. प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में इस बार 40 वर्ष से कम आयु के 28 विधायक चुने गए हैं, वहीं राजनीतिक दृष्टि से सशक्त होते वागड़ में आने वाले समय में राजनीति की डोर युवाओं के हाथों में रहेगी। इसके संकेत चुनाव में मतदाताओं की ओर से युवा प्रत्याशियों को प्राथमिकता देने से दिखाई देने लगे हैं। यही कारण रहा कि डूंगरपुर में तीन सीटों पर 40 वर्ष से कम आयु के तीन प्रत्याशी प्रदेश के सबसे बड़े सदन के लिए चुने गए हैं।

राजस्थान का रण
वागड़ की राजनीति ।
बांसवाड़ा. प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में इस बार 40 वर्ष से कम आयु के 28 विधायक चुने गए हैं, वहीं राजनीतिक दृष्टि से सशक्त होते वागड़ में आने वाले समय में राजनीति की डोर युवाओं के हाथों में रहेगी। इसके संकेत चुनाव में मतदाताओं की ओर से युवा प्रत्याशियों को प्राथमिकता देने से दिखाई देने लगे हैं। यही कारण रहा कि डूंगरपुर में तीन सीटों पर 40 वर्ष से कम आयु के तीन प्रत्याशी प्रदेश के सबसे बड़े सदन के लिए चुने गए, जबकि इसी आयु वर्ग में बांसवाड़ा में दो प्रत्याशी दूसरे और एक प्रत्याशी तीसरे स्थान पर रहा है।
बांसवाड़ा की पांच सीटों से निर्वाचित सभी विधायकों की आयु 50 वर्ष से अधिक है। इसमें बांसवाड़ा से अर्जुनसिंह बामनिया 60, घाटोल से नानालाल 69, गढ़ी से कैलाशचंद्र मीणा 58, बागीदौरा से महेंद्रजीतसिंह मालवीया 62 और कुशलगढ़ से रमीला खडि़या की आयु 54 वर्ष है। जबकि डूंगरपुर के निर्वाचित प्रत्याशियों में डूंगरपुर सीट से कांग्रेस के गणेश घोघरा 40 वर्ष, आसपुर से बीएपी के उमेश मीणा 31 व चौरासी से बीएपी के राजकुमार रोत 31 वर्ष और सागवाड़ा से निर्वाचित शंकरलाल 59 वर्ष के हैं।
यह पीछे नहीं
घाटोल सीट से दूसरे स्थान पर रहे अशोक कुमार 28 और बागीदौरा से जयकृष्ण पटेल 36 वर्ष के हैं, जबकि बांसवाड़ा से तीसरे स्थान पर रहे हेमंत राणा की आयु 34 व कुशलगढ़ से राजेंद्र आमलियार की आयु 37 वर्ष है। डूंगरपुर से भाजपा के बंशीलाल 40, सागवाड़ा से कांग्रेस के कैलाश रोत 39 तथा आसपुर से कांग्रेस के राकेश रोत 40 वर्ष के हैं। 50 वर्ष से कम आयु के राजनीतिक दलों के प्रत्याशियों में चौरासी से सुशील कटारा 45, डूंगरपुर से कांतिलाल रोत 47, सागवाड़ा से मोहनलाल रोत की आयु 42 वर्ष है।
युवा ही पहली पसंद
दोनों जिलों में 40 वर्ष की आयु के निर्वाचित और दूसरे व तीसरे स्थान पर रहे प्रत्याशियों को मिले जनाधार का प्रमुख कारण युवाओं की पसंद युवा प्रत्याशियों को बताया जा रहा है। बांसवाड़ा जिले में ही पौने चौदह लाख मतदाताओं में से 18 से 40 वर्ष आयु के मतदाताओं की संख्या 52 प्रतिशत से अधिक रही थी और मतदान के बाद युवा प्रत्याशियों को मिले मतों की संख्या ने इसकी पुष्टि भी कर दी है। वहीं एक अन्य कारण शिक्षित युवा प्रत्याशियों की क्षेत्रीय विकास, शिक्षा को बढ़ावा देने की सोच भी है, जिसने विशेष रूप से युवा मतदाताओं को अपनी ओर खींचा है और उम्र के उत्तरार्ध की ओर बढ़ते नेताओं के प्रति नजरिया बदला है। हालांकि इसमें राजनीतिक अनुभव को दरकिनार नहीं किया जा सकता है।

ट्रेंडिंग वीडियो