scriptFake letter made pretending to be the plot of Ruhilkhand canal, case o | रुहेलखंड नहर का प्लाट बताकर बनाया फर्जी लेटर, नकली एंटी करप्शन अफसर पर धोखाधड़ी का मुकदमा | Patrika News

रुहेलखंड नहर का प्लाट बताकर बनाया फर्जी लेटर, नकली एंटी करप्शन अफसर पर धोखाधड़ी का मुकदमा

locationबरेलीPublished: Feb 10, 2024 05:30:17 pm

Submitted by:

Avanish Pandey

बरेली। नकली एंटी करप्शन अफसर बनकर अपनी ही बहू को धमकाने के आरोपी ने रुहेलखंड नहर का प्लाट बताकर फर्जी लेटर बनवा लिया। हकीकत पता चलने पर कोर्ट के आदेश पर कोतवाली पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी समेत कई धाराओं में एफआईआर दर्ज कर ली है।

 

sadsadas.jpg
फर्जी लेटर को असली के रूप में किया प्रयोग

बारादरी के एक्जीक्यूटिव क्लब रोड एसएस टॉवर निवासी पवन कुमार सक्सेना ने बताया कि उनकी पत्नी ने शिव गार्डन कॉलोनी निवासी अजय सक्सेना को एक प्लाट बेचा था। अजय ने उनके खिलाफ कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया कि प्लाट रुहेलखंड नहर का है, इसमें 30 फुट भूमि नहर विभाग की बताई। पवन कुमार सक्सेना ने जब जन सूचना प्राप्त की तो रुहेलखंड नहर खंड के अधिशासी अभियन्ता मुकेश कुमार की ओर से 25 मार्च 2023 को बताया गया कि जो प्रार्थपत्र आरोपी ने कोर्ट में प्रस्तुत किया है वह पत्र जिलेदार अतिक्रमण के कार्यालय से न तो डिस्पैच है और न ही सर्विस स्टांप रजिस्ट्री में प्रविष्ट हुआ है। इससे स्पष्ट है कि अजय सक्सेना ने एक फर्जी पत्र जिलेदार अतिक्रमण रुहेलखंड कार्यालय सिविल लाइंस का तैयार किया और उसे असली के रूप में प्रयोग किया। इस पर कोई पंत्राक नहीं पड़ा है और न ही जिलेदार अतिक्रमण का नाम लिखा है।
आरोपी के खिलाफ कोतवाली में दर्ज है मुकदमा

पवन सक्सेना ने बताया कि आरोपी एक शातिर जालसाज है। पहले भी उसके खिलाफ ब्लैकमेलिंग करने के मुकदमे दर्ज है। उसपर एंटी करप्शन का अफसर बनकर अपनी ही बहू को धमकाने का आरोप है। इसकी रिपोर्ट कोतवाली में दर्ज हुई। उसने कूटरचित दस्तावेज तैयार कर उन्हें असली के रूप में कोर्ट में प्रयोग किया। इस संबंध में उन्होंने पुलिस अधिकारियों को डाक से सूचना दी, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। कोर्ट के आदेश पर कोतवाली पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है।

ट्रेंडिंग वीडियो