सिर्फ सफेद रंग का मशरूम खा सकते, कफ रोगों में फायदेमंद

सिर्फ सफेद रंग का मशरूम खा सकते, कफ रोगों में फायदेमंद

Divya Sharma | Updated: 26 Jul 2019, 12:47:07 PM (IST) Bassi, Jaipur, Rajasthan, India

किसी भी उम्र का व्यक्ति खा सकता है मशरूम, खाने से परहले इसे उबालें जरूर

प्रोटीन, फाइबर, विटामिन, नियासिन राइबोफ्लेविन और मिनरल तत्वों से युक्त मशरूम पौष्टिक सब्जी होती है। आयुर्वेद में मशरूम को छत्रक कहते हैं। वात और पित्त दोषों में लाभ करने वाले इस मशरूम को संस्कृत में संस्वेदज, भूमिच्छत्र, शिलिन्ध्रक आदि के नाम से भी जानते हैं। इसकी कई किस्में विभिन्न रोगों में लाभदायक होती हैं। किसी भी उम्र के व्यक्ति के लिए मशरूम खाना बेहद फायदेमंद होता है। जानें इसके बारे में-


अहम वनस्पति
भारतीय औषधियों में छत्रक को अहम वनस्पतियों में शामिल किया गया है। खास बात यह है कि ये बारिश के मौसम में सूखी पुरानी लकड़ी के अलावा गोबर और वृक्षों के ऊपर मुख्य रूप से उगता है। इसकी खेती भी की जाती है।


मशरूम के दो प्रकार
मशरूम की मुख्य रूप से दो प्रजाति पाई जाती है। निर्विष (बिना जहर का) और सविष (जहरीला)। मुख्य रूप से सफेद रंग का साफ मशरूम खाने योग्य होता है। यह एक प्रकार की फफूंद होती है इसलिए इसे खाने में इस्तेमाल करने से पहले साफ पानी में उबाल लेना सही रहेगा। इसकी सब्जी बनाने के अलावा इससे तैयार पकौड़े भी स्वादिष्ट लगते हैं।


बुखार व कफ में फायदेमंद
ऐसे मशरूम जो साफ जगह और गोबर पर उगते हैं वे सेहत के लिए फायदेमंद हैं। अतीसार, बुखार और कफ संबंधी रोगों में ये बेहद लाभ करते हैं।


किडनी रोगी लेने से बचें
फूड व ग्लूटेन एलर्जी और ऐसे किडनी रोगी जिन्हें कम प्रोटीन लेने के लिए कहते हैं वे डॉक्टरी सलाह से ही इसे खाएं।

डॉ. चंद्रेश तिवारी, आयुर्वेद मेडिकल ऑफिसर, कोटा

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned